नई दिल्ली, जेएनएन। आमिर खान की फिल्म बॉक्स ऑफिस पर पहले ही जूझ रही है, अब फिल्म के सामने एक नई मुसीबत आ गयी है। दिल्ली के एक वकील ने फिल्म को लेकर आमिर खान के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की है। इसके लिए दिल्ली के पुलिस कमिश्नर को शिकायत भेजी गयी है, जिसमें लाल सिंह चड्ढा के मेकर्स और आमिर खान पर फिल्म के जरिए भारतीय सेना का अपमान और भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाया गया है।

एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस कमिश्नर संजय अरोड़ा को दी गयी शिकायत में वकील विनीत जिंदल का आरोप है कि फिल्म में कुछ बातें आपत्तिजनक हैं, जिसके लिए भारतीय दंड संहिता की धारा 153, 153 ए, 298 और 505 के तहत आमिर खान, निर्देशक अद्वैत चंदन और पैरामाउंट पिक्चर्स के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जानी चाहिए। 

बता दें, पैरामाउंट पिक्चर्स हॉलीवुड की फिल्म निर्माण कम्पनी ने है, जिसने फॉरेस्ट गम्प बनायी थी। जिंदल ने कहा कि फिल्म में दिखाया गया है कि दिमागी रूप से अक्षम एक व्यक्ति कारगिल युद्ध के दौरान भारतीय सेना को ज्वाइन करता है। यह सर्वविदित है, कारगिल युद्ध लड़ने के लिए सर्वश्रेष्ठ अधिकारी भेजे गये थे। कड़ा प्रशिक्षण हासिल करने के बाद जवान युद्ध लड़ते हैं, लेकिन फिल्म में भारतीय सेना का मनोबल गिराने और बदनाम करने की गरज से जानबूझकर इस घटना का इस्तेमाल किया गया है।

एक अन्य दृश्य को लेकर भी जिंदल ने आपत्ति जतायी। उन्होंने कहा कि एक दृश्य में पाकिस्तानी सैनिक कहता है- मैं नमाज पढ़ता हूं और दुआ करता हूं लाल, तुम भी ऐसा ही क्यों नहीं करते। इस पर लाल कहता है- मेरी मां कहती है, यह सब पूजा-पाठ मलेरिया का तरह है। इससे दंगे होते हैं। शिकायत में कहा गया है कि यह हिंदुओं की भावनाओं को आहत करने वाली फिल्म है।

शिकायत में आगे कहा गया कि आमिर खान एक पब्लिक फिगर हैं, जिनका एक बड़ी आबादी पर असर है। ऐसे संवाद से एक बड़े तबके की भावनाओं को ठेस पहुंचती है। इससे सुरक्षा, शांति और सौहार्द्र की समस्या उत्पन्न हो सकती है। 

यह भी पढ़ें: Laal Singh Chaddha Box Office: दूसरे दिन आमिर खान की फिल्म को बड़ा झटका, इतनी रह गयी कमाई

Edited By: Manoj Vashisth