मुंबई, एएनआइ।ShivSena manifesto शिवसेना ने महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव को लेकर अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया है। गौरतलब है कि पहले भाजपा और शिवसेना मिलकर घोषणा पत्र जारी करने वाले थे,लेकिन कुछ विषयों पर सहमति न होने के कारण दोनों पार्टियां अलग-अलग घोषणा पत्र जारी करेंगी। इसके बाद शुक्रवार को ही ये निर्णय लिया गया कि शनिवार को शिवसेना अकेले ही अपना घोषणा पत्र जारी कर देगी।

पहले भाजपा और शिवसेना मिलकर एक साझा घोषणा पत्र जारी करने की योजना बना रहे थे, लेकिन कई विषयों पर आपसी सहमति न होने के कारण दोनों पार्टियां अलग-अलग घोषणा पत्र जारी करने पर सहमत हो गए। मिली जानकारी के अनुसार, दोनों पार्टियों के बीच आरे कॉलोनी मामले और नाणार रिफाइनरी को लेकर आपसी सहमति नहीं बन पायी। वहीं, दूसरी तरफ शिवसेना दस रुपये में थाली और एक रुपये में इलाज जैसे लोकलुभावन वादे अपने घोषणा पत्र में शामिल करना चाह रही थी। 

ज्ञात हो कि शुक्रवार को महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव को लेकर आम आदमी पार्टी ने भी अपना घोषणा पत्र जारी किया था। अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली ये पार्टी  महाराष्ट्रर में 24 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। आम आदमी पार्टी ने अपने घोषणा पत्र के माध्यम से महाराष्ट्र को विफल राज्य बताया है और यहां की समस्याओं के निवारण के लिए दिल्ली का मॉडल लागू करने की बात कही है।   

गौरतलब है कि महाराष्ट्र में चुनावी सरगर्मी काफी तेज है। शुक्रवार को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने भी बुलढाणा के चिखली में चुनावी जनसभा को संबोधित किया था और विपक्षी पार्टियों पर जमकर निशाना साधा था। शाह ने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा था कि एनसीपी-कांग्रेस सरकार ने राज्य में 15 साल तक लूट मचाई है। कांग्रेस ने विदर्भ के साथ अन्याय किया, जबकि भाजपा ने उसका विकास किया। कांग्रेसियों का कहना है कि कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाने से महाराष्ट्र को क्या मतलब, जबकि पूरे देश की जनता यही चाहती है कि कश्मीर उससे कभी दूर न हो और हमेशा उसका अंग बना रहे। 

Maharashtra assembly elections2019: अनुच्छेद 370 हटना आतंकवाद के ताबूत में आखिरी कील- योगी आदित्यनाथ

 महाराष्ट्र की अन्य खबरें पढऩे के लिए यहां क्लिक करें

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस