मुंबई, एएनआइ। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में सीटों के बंटवारे से नाखुश 26 शिवसेना नगरसेवकों समेत 300 कार्यकर्ताओं ने पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे को अपना इस्तीफा भेजा है। गौरतलब है कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में महाराष्ट्र की कुल 288 विधानसभा सीटों पर शिवसेना को 124 सीटों और भाजपा को 150 सीटों पर चुनाव लडऩे पर सहमति बनी है। शेष बची हुई सीट सहयोगी दलों के लिए छोड़ दी गई थी। यह कहना गलत नहीं होगा कि भाजपा ने अपनी चतुराई से केवल शिवसेना ही नहीं बल्कि छोटे सहयोगी दलों को भी अपने वश में कर लिया है। 

महाराष्ट्र में भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए गठबंधन में पांच पार्टियां शामिल हैं, इनमें भाजपा, शिवसेना, आरपीआइ (ए), आरएसपी और रैयत क्रांति पार्टी शामिल हैं। लेकिन अगर उम्मीदवारों की लिस्टपर पर नजर डाली जाये तो केवल भाजपा और शिवसेना ही लड़ती दिख रही हैं। 

ज्ञात हो कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए शुरुआत में ही 50-50 सीटों के शेयरिंग का फॉर्मूला भाजपा के सामने रखा था लेकिन इस मामले में हुई बैठकों के बाद एनडीए में महाराष्ट्र की कुल 288 विधानसभा सीटों में से शिवसेना को 124 सीटों और भाजपा को 150 सीटों जबकि शेष बची 14 सीटों को सहयोगी दलों के लिए छोड़ दी गयी है। 

गौरतलब है कि 124 सीटों से खुश हो रही शिवसेना को तब तगड़ा झटका लगा जब उसे पता चला कि भाजपा ने बाकी सहयोगी दलों की 14 सीटों पर भी अपने उम्मीदवारों को उतारने के फॉर्मूले को अमलीजामा पहनाया है। भाजपा महाराष्ट्र  में इस प्रकार से 150 नहीं बल्कि 164 सीटों पर चुनावी मैदान में उतरी है। आरपीआई (अठावले), आरएसपी, शिव संग्राम और रैयत क्रांति पार्टी की कोटे में आई सीटों पर उतरे प्रत्याशी भाजपा के चुनाव चिह्नï कमल पर किस्मत आजमा रहे हैं। भाजपा की इस कूट रणनीति से शिवसेना ही नहीं बल्कि सहयोगी दल भी कशमकश में दिख रहे हैं। 

अभिनेता सलमान खान के बंगले पर क्राइम ब्रांच का छापा, 29 साल से फरार अपराधी पकड़ा गया

महाराष्ट्र की अन्य खबरें पढऩे के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Babita kashyap

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप