जेएनएन, लखनऊ। अमेठी से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को हराकर संसद पहुंचीं स्मृति जुबिन ईरानी ने केंद्रीय मंत्री के रूप में शपथ ले ली है। स्मृति ने दूसरी बार केंद्रीय मंत्री पद पर शपथ ली है। 

उत्तर प्रदेश के नतीजों में सबसे बड़ा उलटफेर करते हुए स्मृति ईरानी ने अमेठी में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को हराया है। स्मृति ईरानी की ये जीत इसलिए बहुत बडी है क्योंकि ये सीट कांग्रेस और गांधी परिवार की गढ़ रही है। यहां से संजय गांधी, राजीव गांधी, सोनिया गांधी के अलावा राहुल गांधी सांसद रहे हैं और अब इस सीट पर स्मृति की जीत की वजह से कमल खिल गया है।

स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी को 54 हजार सात सौ 31 वोटों से हराया। अमेठी में स्मृति ईरानी को कुल चार लाख 67 हजार पांच सौ 98 वोट मिले, जबकि राहुल गांधी को चार लाख बारह हजार 8 सौ 67 वोट मिले।

स्मृति ईरानी का राजनीतिक सफर

स्मृति ईरानी 2003 में बीजेपी में शामिल हुईं। 2004 में बीजेपी ने उन्हें महाराष्ट्र के युवा विंग का उपाध्यक्ष बनाया। 2004 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने उन्हें दिल्ली की चांदनी चौक सीट से उम्मीदवार बनाया, लेकिन कांग्रेस उम्मीदवार कपिल सिब्बल से वह हार गईं। 2010 में उन्हें बीजेपी का राष्ट्रीय सचिव नियुक्त किया गया।इसके बाद बीजेपी ने उन्हें महिला मोर्चा का अध्यक्ष बनाया। 2011 में बीजेपी ने उन्हें गुजरात से राज्यसभा भेजा। 2014 का चुनाव स्मृति ईरानी ने अमेठी से राहुल गांधी के खिलाफ लड़ा, लेकिन हार गईं हालांकि मोदी सरकार में उन्हें मानव संसाधन विकास मंत्री का पद मिला। जुलाई 2016 में स्मृति ईरानी के मंत्रालय में फेरबदल हुआ और उन्हें कपड़ा मंत्रालय का प्रभार मिला।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस