फतेहपुर, जेएनएन। लोकसभा चुनाव के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भले ही फतेहपुर में जनसभा नहीं की लेकिन, उनकी लहर यहां खूब बही। मोदी का जादू यहां के मतदाताओं पर ऐसा चला कि मतगणना के नतीजों ने भाजपा प्रत्याशी एवं केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति की जीत का ग्राफ पिछले चुनाव की तुलना में इस बार और बढ़ा दिया। 5,66,040 मत बटोर कर साध्वी ने लगातार दूसरी बार फतेहपुर संसदीय सीट पर कब्जा किया। मोदी लहर के आगे विपक्षी दलों के सारे समीकरण धरे रह गए। सांसद निरंजन ज्योति ने 1,97,087 मतों से जीत दर्ज की। 2014 के लोकसभा चुनाव में उनकी जीत का अंतर 1,84,000 से अधिक था। उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी गठबंधन प्रत्याशी सुखदेव प्रसाद वर्मा को 3,67,835 वोट मिले। वहींर तीसरे नंबर पर रहे कांग्रेस प्रत्याशी राकेश सचान को 66,077 मत ही मिल पाए और उनकी जमानत जब्त हो गई।


लोकसभा चुनाव में साध्वी ने फतेहपुर सीट पर जीत दोहराते हुए जनता के बीच पार्टी और खुद की मजबूत पैठ का नमूना पेश किया है। सियासी पंडित इस सीट पर भाजपा को कड़ी टक्कर के कयास लगा रहे थे लेकिन, जिस तरह से रिकार्ड मतों से भाजपा प्रत्याशी ने जीत दर्ज कराई है उससे विपक्षी दल भी सकते में आ गए। जिले में पड़े 10,39,000 मतों में दस प्रत्याशियों के बीच भाजपा प्रत्याशी को मिले 5,66,040 मत जनता में पीएम मोदी की स्वीकार्यता की मुहर लगा रहे हैं। उम्मीद से बढ़कर नतीजे और शानदार जीत मिलने से भाजपाई झूम उठे। मतगणना स्थल से लेकर केंद्रीय मंत्री के आवास और शहर में जगह जगह ढोल-नगाड़े की धुन पर कार्यकर्ता खुशी का इजहार करते रहे। इसके साथ जमकर पटाखे फोड़े गए। 
 किसको कितने मिले वोट
प्रत्याशी          दल                  प्राप्त मत 

साध्वी निरंजन ज्योति भाजपा    5,66,040

सुखदेव प्रसाद वर्मा बसपा    3,67,835 

राकेश सचान कांग्रेस     66,077

अशोक कुमार मिश्र जनहित पार्टी   5278

महेशचंद्र साहू प्रसपा     2718

राजकुमार लोधी वीआईपी     2457

कामता प्रसाद निर्दलीय     3596

जुबेर अहमद निर्दलीय     4906 

बेनी प्रसाद      निर्दलीय    7076 

नोटा                    ----- 14,692


भाजपा ने चौथी बार लहराया परचम 
भाजपा ने फतेहपुर संसदीय क्षेत्र के इतिहास में चौथी बार जीत का परचम लहराने में कामयाबी हासिल की। यहां से पहली बार वर्ष 1998 में भाजपा प्रत्याशी डा. अशोक पटेल ने जीत हासिल की थी। इसके एक वर्ष बाद 1999 में फिर हुए चुनाव में डा. अशोक पटेल ने जीत का सिलसिला कायम रखा। हालांकि इसके बाद वर्ष 2004 में बसपा से महेंद्र निषाद तो वर्ष 2009 में सपा के राकेश सचान ने जीत का स्वाद चखा। वर्ष 2014 के चुनाव में भी भाजपा प्रत्याशी रहीं साध्वी निरंजन ज्योति ने मोदी मैजिक के सहारे बड़ी जीत दर्ज की थी।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Abhishek

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप