मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

मऊ, जेएनएन। पूर्वांचल में एक मात्र बची हुई लोकसभा सीट घोसी पर भी भाजपा ने आखिरकार रविवार को प्रत्‍याशी घोषित कर दिया। भाजपा ने घोसी से पार्टी की ओर से आखिरकार हरिनरायन राजभर का नाम घोषित कर दिया है। पूर्व में यह लोकसभा सीट भाजपा सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी को देने पर विचार कर रही थी। मगर राज्‍य में सहयोगी दल सुभासपा की ओर से और सीटाें की मांग के बाद समझौता न हो पाने पर सहयोगी दल ने अपने 39 प्रत्‍याशियों की अलग से सूची घोषित कर दी थी। 

सुभासपा से नहीं हो सका समझौता : मऊ में सातवें चरण में मतदान होना था, लिहाजा पार्टी इस सीट को लेकर आपसी समझौते पर विचार कर रही थी। हालांकि सुभासपा ने अपने लिए कुछ और सीटों की मांग की थी इसलिए भाजपा से लोकसभा के लिए राज्‍य में सहयोगी दल से समझौता नहीं हो सका। वहीं राबर्टसगंज में अपना दल (अनुप्रिया गुट) की ओर से साझा उम्‍मीदवार की घोषणा की गर्इ तो भी सुभासपा ने प्रत्‍याशी को समर्थन देने से मना कर दिया था। 

पूर्वांचल में घोसी सीट ही थी शेष : सुभासपा से समझौता न हो पाने की वजह से ही अंदेशा था कि भाजपा यहां से अब अपना ही प्रत्‍याशी घोषित करेगी। अब पूर्वांचल में भाजपा की ओर से सभी सीटों पर प्रत्‍याशियों की स्थिति स्‍पष्‍ट हो गई है। ऐसे में अब मऊ जिले में सियासी समर भी अब चरम पर होगा। रविवार को देर शाम भाजपा की ओर से सचिव केद्रीय चुनाव समिमि जेपी नडडा की ओर जारी सूची में भाजपा ने कुल सात प्रत्‍याशियों की घोषणा की है। इसमें से उप्र से एकमात्र सीट पूर्वांचल की घोसी ही शामिल है। 

भाजपा ने फिर जताया भरोसा : तमाम जद्​दोजहद, गठबंधन की संभावनाओं पर विराम लगाते हुए भारतीय जनता पार्टी ने अंतत: घोसी में अपने ही सिपहसालार पर भरोसा जताया है। 2014 में पहली बाद इस संसदीय क्षेत्र में भगवा परचम लहराने वाले हरिनरायन राजभर को ही दुबारा मैदान में उतार कर एक बार फिर राजभर फैक्टर और अपने आधार वोटों के बल पर जीत का मंसूबा बांधा है। 

जन्म स्थान : तंगुनिया, बलिया, उत्‍तर प्रदेश, पत्नी का नाम- श्रीमती मेवाती देवी। शैक्षिक योग्यता - इंटरमीडिएट।  पिता का नाम- श्री भागीरथी,  माता का नाम- श्रीमती कबूतरी,  जन्मतिथि - 01/01/1950। 

राजनीतिक सफरनामा

1996 - 2002 सदस्‍य, राज्‍य विधानसभा, उत्‍तर प्रदेश, ( दो बार) 

1997 - 2002 कारागार, लघु सिंचाई और ग्रामीण विकायस मंत्रालय में राज्‍य मंत्री, उत्‍तर प्रदेश सरकार 

मई 2014 में सोलहवीं लोकसभा के लिए घोसी से बतौर भाजपा उम्मीदवार निर्वाचित 

1 सितम्‍बर 2014 से सदस्‍य, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, पर्यावरण एंव वन संबंधी स्‍थायी समिति, सदस्‍य, परामर्शदात्री समिति, रसायन और उर्वरक मंत्रालय

संसद में गतिविधियां : संसदीय कार्रवाई के दौरान कुल 331 में 317 दिन मौजूद रहे संसद में, 95.77 फीसद उपस्थिति के साथ है गुड रेटिंग।पूरे पांंच साल में किए महज 160 सवाल। अन्य कारणों से पूरे पांच साल रहे चर्चा में। पुरुष आयोग की प्राइवेट मेंबर बिल लाकर चर्चा में आए हरिनरायन राजभर।

Posted By: Abhishek Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप