नई दिल्ली, जेएनएन। लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election 2019) के पहले चरण का मतदान सुबह 7:00 बजे से शुरू हो चुका है। पहले चरण में 20 राज्यों की 91 लोकसभा सीटों पर गुरुवार को वोटिंग हो रही है। इसमें छत्तीसगढ़ की एक, बस्तर लोकसभा सीट भी शामिल है। नक्सल प्रभावित क्षेत्र होने की वजह से यहां सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए हैं। संवेदनशील चुनाव केंद्र के आसपास के जंगलों में नक्सलियों पर नजर रखने के लिए ड्रोन कैमरे का इस्तेमाल किया जा रहा है।

मालूम हो कि नक्सली चुनाव में गड़बड़ी फैलाने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं। मंगलवार को नक्सली हमले में भाजपा विधायक की मौत हो गई थी। उनकी सुरक्षा में तैनात जवान भी शहीद हो गया था। मालूम हो कि लोकसभा चुनावों की घोषणा होते ही झारखंड में नक्सली गतिविधियां बढ़ गई हैं। पिछले कुछ दिनों में नक्सलियों ने कई बड़े हमलों को अंजाम दिया है। आज सुबह गया, बिहार में भी एक मतदान केंद्र के बाहर बम मिलने से हड़कंप मच गया।

गया, बिहार के डुमरिया स्थित अरबन सलैया बूथ के बाहर आज सुबह एक केन बम मिलने से हड़कम्‍प मच गया है। बूथ पर वोटिंग अभी तक शुरू नहीं हो सकी है। यह बूथ नक्‍सली इलाके में है। इससे पहले कल भी सीआरपीएफ के कोबरा जवानों ने एक बूथ के पास नक्सलियों द्वारा प्‍लांट किए दो आइईडी और एक देसी बम को बरामद कर डिफ्यूज किया थे।

छत्तीसगढ़ की बस्तर लोकसभा सीट अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित है। नक्सल प्रभावित क्षेत्र होने के कारण बस्तर लोकसभा सीट के दंतेवाड़ा, बीजापुर, नारायणपुर और कोंटा में दो घंटे कम मतदान होगा। इन क्षेत्रों में मतदान का समय सुबह 7:00 बजे से दोपहर 3:00 बजे तक निर्धारित किया गया है। हालांकि, इसी लोकसभा क्षेत्र के जगदलपुर, कोंडागांव, बस्तर और चित्रकूट क्षेत्र में अन्य जगहों की तरह ही सुबह 7:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक मतदान किया जा सकेगा।

बस्तर लोकसभा सीट पर आजादी के बाद से अब तक 16 लोकसभा चुनाव हुए हैं। इस सीट पर पिछले कुछ समय से भाजपा का प्रभुत्व रहा है। भाजपा यहां पांच बार लोकसभा चुनाव जीत चुकी है, लेकिन इस बार मुकाबला कांटे का है। 2018 विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने यहां पर जबरदस्त जीत हासिल की है। इस वजह से बस्तर लोकसभा सीट को लेकर कांग्रेस का आत्मविश्वास बढ़ा हुआ है।

पुरुष से ज्यादा हैं महिला मतदाता
बस्तर लोकसभा सीट पर कांग्रेस के दीपक बैज और भाजपा के बैदुराम कश्यम समेत सीपीआई के रामू राम मौर्य और बसपा के आयतु राम मांडवी समेत कुल सात प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं। मुख्य मुकाबला कांग्रेस और भाजपा उम्मीदवारों के बीच होने का अनुमान लगाया जा रहा है। दोनों पार्टियों ने अपने उम्मीदवार को जिताने के लिए पूरी ताकत झोंक रखी है। हालांकि, दोनों पार्टी के उम्मीदवारों पर आपराधिक मामले चल रहे हैं। इस सीट पर कुल 11,93,116 मतदाता हैं। इनमें 6,09,710 महिलाएं और 5,83,406 पुरुष मतदाता हैं।

कौन कितनी बार जीता
बस्तर लोकसभा सीट पर हुए 16 लोकसभा चुनावों में भाजपा, कांग्रेस और निर्दलीय पांच-पांच बार जीत का परचम फहरा चुके हैं। एक बार अन्य दल ने इस सीट पर कब्जा किया है। भाजपा ने इस सीट पर लगातार पिछले पांच लोकसभा चुनावों (1998, 1999, 2004, 2009 और 2014) में जीत दर्ज की है। कांग्रेस अंतिम बार 1991 में यहां से जीती थी।

Posted By: Amit Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप