रांची, जेएनएन। जनाक्रोश रैली में केंद्र व राज्य सरकार की योजनाओं की पोल खोली जाएगी। केंद्र व राज्य सरकार की योजनाओं में कितनी त्रुटियां व भ्रष्टाचार है, इस सच्चाई से आम लोगों को अवगत कराया जाएगा। शुक्रवार को राजद प्रदेश कार्यालय में मीडिया प्रतिनिधियों से बातचीत के क्रम में ये बातें प्रदेश अध्यक्ष अभय सिंह ने कही। उन्होंने कहा कि 20 अक्टूबर को आहूत जनाक्रोश रैली युवा राजद की नहीं, बल्कि राष्ट्रीय जनता दल की है। हरमू मैदान में आयोजित इस रैली में पूरे प्रदेश के कार्यकर्ता शामिल होंगे।

रैली में बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, झारखंड प्रभारी सह पूर्व केंद्रीय मंत्री जयप्रकाश यादव, पूर्व मंत्री अब्दुल बारी सिद्दिकी समेत पार्टी के कई नेता शिरकत करेंगे। कहा, इस रैली के माध्यम से राष्ट्रीय जनता दल झारखंड में अपनी ताकत का अहसास कराने का काम करेगा। रैली के आयोजन से विधानसभा चुनाव में भी राजद को ताकत मिलेगी।

उन्‍होंने कहा, महागठबंधन में भी राजद बढ़-चढ़कर हिस्सा लेगा। विधानसभा की 14 सीटों पर दावेदारी करेगा। उन्होंने बताया कि रैली में शामिल होने के लिए कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. रामेश्वर उरांव व नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन को भी आमंत्रित किया गया है। इससे पूर्व राजद प्रदेश कार्यालय में लोकनायक जयप्रकाश नारायण की जयंती भी मनायी गई। 

मुख्यमंत्री हेमंत होंगे तो त्याग भी उन्हें ही करना होगा : अभय

राजद प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि महागठबंधन के नाते मुख्यमंत्री तो हेमंत सोरेन ही होंगे। लिहाजा त्याग भी उन्हें ही करना होगा। राजद का मुख्य उद्देश्य वर्तमान राज्य सरकार को उखाड़ फेंकना है। कहा, जन आशीर्वाद यात्रा कर मुख्यमंत्री रघुवर दास पैसे का दुरुपयोग कर रहे हैं। प्रतिदिन केंद्र से कोई न कोई मंत्री रांची पहुंच रहे हैं। यदि रघुवर सरकार ने वास्तव में काम किया है तो काम के बदले वोट मांगे। अब राज्य सरकार की मंशा झारखंड के खनिज संपदा पर है। राज्य में मॉब लिंचिंग की घटनाओं में भी वृद्धि हुई है। आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को भी कहना पड़ा कि इस मामले में आरएसएस का कोई हाथ नहीं है।

Posted By: Alok Shahi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप