रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand Assembly Election 2019 भाजपा नेता सरयू राय को अब तक टिकट नहीं देना भाजपा की गले की फांस बनता जा रहा है। विपक्षी पर्टियां भी इस पर पैनी नजर बनाए हुए हैैं और सरयू राय को अपने पाले में करने की कोशिश कर रही है। कांग्रेस सरयू राय के प्रति सिंपैथी की भावना रख रही है। उम्मीद जताई जा रही है कि कांग्रेस सरयू राय के खिलाफ उम्मीदवार नहीं देगी। हालांकि सरयू राय ने किसी पार्टी से चुनाव लडऩे की बात नहीं कही है। वो सीएम रघुवर दास के खिलाफ निर्दलीय दावेदारी कर सकते हैैं।

इस बीच कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने कहा कि सरयू राय लगातार सरकार में रहते हुए उनकी गलतियों को उठाते रहे हैैं। सबको पता है कि इसी कारण उनके साथ ऐसा सलूक किया गया है। फिर भी यह भाजपा का आंतरिक मामला है। अगर सरयू राय या उनके किसी भी व्यक्ति ने हमसे संपर्क करता है तो इस बारे में सोचा जा सकता है। कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. इरफान अंसारी ने भी कहा कि वे सरयू राय का सम्मान करते हैैं। वे राज्य के प्रति इमानदार हैैं। अगर वे भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने की वजह से लक्ष्य बनाए गए हैैं तो वे उनके साथ हैैं।

कांग्रेस बोली, सरयू प्रकरण से भ्रष्टाचार पर भाजपा की कलई खुली

सरयू राय के टिकट प्रकरण से भाजपा के भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की कलई खुल गई है। कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने कहा कि सत्ता के नशे में मुख्यमंत्री रघुवर दास द्वारा विपक्षियों पर अनर्गल व अमर्यादित टिप्पणी से झारखंडी जनता झांसे में आने वाली नही है। सरयू राय ने जब खुल्लम खुल्ला भ्रष्टाचार पर नजर रखने की बात कही और साफ  शब्दों में तीसरे मुख्यमंत्री के जेल जाने की ओर इशारा किया है तो भाजपा क्यों मौन है।

उन्होंने कहा कि सवाल सरयू राय के टिकट काटने का नहीं है। सवाल मौजूदा सरकार के उन कारगुजारियों पर भाजपा के मौन होने का है। सरयू राय ने समय-समय पर इस संबंध में मुद्दा उठाया था। रघुवर सरकार में शामिल स्वास्थ्य एवं कृषि मंत्री पर आरोप लगा। लेकिन उन पर कार्रवाई की बजाय उन्हें फिर से उम्मीदवार बना कर भाजपा ने अपनी मंशा जाहिर कर दी है।

Posted By: Alok Shahi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप