Move to Jagran APP

केजरीवाल को विधानसभा चुनाव से पहले बड़ा झटका, AAP के विधायक और पूर्व मंत्री समेत कई पार्षद BJP में शामिल

दिल्ली सरकार में सामाजिक कल्याण मंत्री रहे राज कुमार आनंद (Raaj Kumar Anand Join BJP) ने आज भाजपा की सदस्यता ग्रहण की। इनके साथ आप पार्टी के और भी नेताओं ने बीजेपी का दामन थामा। भाजपा मुख्यालय में पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री अरुण सिंह और दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद सचदेवा ने बीजेपी की सदस्यता ग्रहण कराई। आनंद AAP छोड़कर बसपा में शामिल हुए थे।

By Monu Kumar Jha Edited By: Monu Kumar Jha Wed, 10 Jul 2024 02:32 PM (IST)
केजरीवाल को विधानसभा चुनाव से पहले बड़ा झटका, AAP के विधायक और पूर्व मंत्री समेत कई पार्षद BJP में शामिल
AAP के बाद बसपा छोड़ पूर्व मंत्री राजकुमार आनंद ने आज भाजपा किया ज्वाइन।

संतोष कुमार सिंह, नई दिल्ली। दिल्ली सरकार के पूर्व मंत्री राजकुमार आनंद भाजपा में शामिल हो गए। लोकसभा चुनाव से पूर्व दिल्ली सरकार पर अनुसूचित जाति विरोधी बताते हुए मंत्री पद के साथ ही आम आदमी पार्टी से इस्तीफा दे दिया था।

आनंद ने बसपा की टिकट पर लड़ा था लोकसभा चुनाव

वह बसपा में शामिल होकर लोकसभा चुनाव (Delhi Lok Sabha Chunav 2024) लड़ा था, लेकिन पराजय का सामना करना पड़ा। बुधवार को वह भाजपा में शामिल हो गए। भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री अरुण सिंह और दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा ने उनका पार्टी में स्वागत किया।

छतरपुर के विधायक करतार सिंह भी बीजेपी में हुए शामिल 

छतरपुर के आम आदमी पार्टी विधायक करतार सिंह तंवर ने भी पार्टी छोड़कर भाजपा (Delhi BJP) में शामिल हो गए। पटेल नगर से पूर्व विधायक वीणा आनंद, छतरपुर से पार्षद उमेश सिंह फोगाट हिमाचल प्रदेश के आप प्रभारी रतनेश गुप्ता और सह प्रभारी सचिन राय भी भाजपा में शामिल हुए।

यह राजकुमार आनंद वहीं हैं, जो दिल्ली सरकार में सामाजिक कल्याण मंत्री थे। जब केजरीवाल (Arvind Kejriwal) जेल में थे, तब इन्होंने आप पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाकर पार्टी से बाहर आ गए थे और बीएसपी ज्वाइन कर ली थी।

इसके बाद बीएसपी ने इन्हें नई दिल्ली सीट से लोकसभा का टिकट दिया। हालांकि बीएसपी का दिल्ली में जनाधार नहीं हैं। इस तरह वह मुकाबले से पहले ही बाहर हो गए।

यह भी पढ़ें: मंगोलपुरी में मंदिर का ढांचा गिराने पहुंची नगर निगम की टीम, लोगों के भारी विरोध के बाद लौटना पड़ा खाली हाथ