नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। रूस जा रही पत्नी को एयरपोर्ट पर विमान तक छोड़ने की चाहत में एक व्यक्ति ने पहले अपनी टिकट बुक कराई। बाद में टिकट को रद करा दिया। लेकिन आइजीआई एयरपोर्ट (IGI Airport Delhi) पर सतर्क सुरक्षाकर्मियों ने उसकी चालाकी पकड़ ली और आरोपित रुसी नागरिक को पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस आरोपित से पूछताछ कर मामले की जांच में जुटी है।

एयरपोर्ट सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, आरोपित रुसी नागरिक का नाम एलेक्जेंडर टिमोफीव है। इसकी पत्नी को मास्को की यात्रा करनी थी। पत्नी के साथ एलेक्जेंडर इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्ड के टर्मिनल 3 पहुंचा। इसकी पत्नी को एयरोफ्लोत विमान से मास्को जाना था।

हावभाव से सुरक्षा कर्मियों को हुआ संदेह

टर्मिनल 3 पहुंचने के बाद इसने फोरकोर्ट से मेन गेट में प्रवेश किया। यहां सुरक्षाकर्मियों को इसने यात्रा से जुड़े तमाम दस्तावेज दिखाए। सुरक्षाकर्मी ने दस्तावेज देखा और इसे अंदर जाने दिया। जब यह अंदर पहुंच गया तब इसके हावभाव से सुरक्षाकर्मियों को संदेह हुआ। जब आरोपित चेकइन एरिया में था, तब सुरक्षाकर्मियों ने एयरोफ्लोत विमान के कर्मियों से आरोपित की यात्रा से जुड़े विवरण के बारे में पता किया।

टिकट बुक कराकर किया था रद

एयरलाइंस से पता चला कि एलेक्जेंडर ने टिकट तो बुक कराई थी, लेकिन उसे रद करा दिया। इसके बाद सुरक्षाकर्मियों ने इसे पकड़ लिया। पूछताछ में इसने बताया कि यह अपनी पत्नी को विमान तक छोड़ना चाहता था। इसे लगा कि इसकी पत्नी को अकेले यहां दिक्कत हो सकती है।

पत्नी को कोई दिक्कत नहीं हो, यह सोचकर इतनी तरकीब लगाई। उसे लगा कि उसकी चालाकी को कोई नहीं पकड़ पाएगा, लेकिन यह उसकी भूल साबित हुई।

ये भी पढ़ें- VIDEO: स्पाइसजेट की दिल्ली-हैदराबाद फ्लाइट में एयर होस्टेस के साथ बदसलूकी, दो यात्रियों को उतारा गया

एयरपोर्ट पर ऐसे अनेक मामले

सीआइएसएफ सुरक्षाकर्मियों ने बताया कि अपने स्जवन को छोड़ने की चाहत में इस तरीके का इस्तेमाल अक्सर सामने आता रहता है। कई लोग ऐसे बुजुर्ग जो अकेले यात्रा कर रहे होते हैं, उन्हें टर्मिनल के भीतर छोड़ने के लिए लोग इस तरीके का इस्तेमाल कर रहे होते हैं।

ये भी पढ़ें- DGCA ने Air India पर लगाया 10 लाख रुपये का जुर्माना, नहीं दी गई थी 6 दिसंबर को हुई घटना की सूचना

इसी तरह यदि किसी की बेटी पहली बार विदेश जा रही होती है तो ऐसे मामलों में इस गैर कानूनी तरीके का लोग इस्तेमाल करते हैं। एयरपोर्ट सूत्रों का कहना है कि हर महीने औसतन पांच से छह मामले इस तरह के सामने आते रहते हैं।

नहीं हों परेशान, टर्मिनल में मदद के लिए कई लोग

एयरपोर्ट पर यात्रियों की मदद के लिए कई लोग मौजूद रहते हैं। सबसे पहले आप जिस एयरलाइंस से सफर कर रहे होते हैं, उसके चेकइन काउंटर पर आपको मदद मिलेगी। इसके अलावा एयलाइंस के कई कर्मी हेल्प डेस्क पर रहते हैं, जिनसे मदद लें। डायल के भी कर्मी टर्मिनल पर रहते हैं। सीआईएसएफ (CISF) के जवान भी अंदर आपकी मदद के लिए मौजूद रहते हैं।

Edited By: Geetarjun

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट