नई दिल्ली [वीके शुक्ला]। देश की राजधानी दिल्ली में क्या सोमवार (7 जून) से लॉकडाउन खत्म होगा? क्या बाजार और दफ्तर खुलने के साथ दिल्ली मेट्रो भी रफ्तार भरेगी? इसको लेकर सस्पेंस शनिवार दोपहर में खत्म हो गया। दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने शनिवार दोपहर में डिजिटल पत्रकार वार्ता के दौरान दुकानों, मॉल और दफ्तरों को खोलने के साथ दिल्ली मेट्रो का परिचालन शुरू करने का भी एलान किया है। खासतौर से बाजार खोलने और दिल्ली मेट्रो का परिचालन शुरू करने की घोषणा अहम रही। बाजार खोलने की मांग काफी दिनों से दिल्ली के कारोबारी कर रहे थे। अपनी मांगों को लेकर कारोबारियों ने सीएम अरविंद केजरीवाल के साथ एलजी अनिल बैजल को भी खत लिखा था। मांगों के मद्देनजर दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी सरकार ने ऑड-इवेन के आधार पर बाजारों, मॉल और दुकानों को खोलने का एलान किया। पहले ही कहा जा रहा था कि कारोबारियों और व्यापारियों की भारी मांग के बाद दिल्ली में सोमवार से सख्त नियमों के साथ बाजार खोलने और मेट्रो शुरू किए जाने की इजाजत मिल सकती है। शनिवार को दिल्ली के सीएम ने जनहित में फैसला लेते हुए दुकानों के साथ दिल्ली मेट्रो का परिचालन शुरू करने की भी घोषणा की।

सीएम अरविंद केजरीवाल के बड़े एलान

ये भी पढ़ेंः Delhi Unlock-2 News: दिल्ली में कैसे खुलेंगे बाजार और मॉल? पढ़ें- दुकानों को खोलने की गाइडलाइन्स

दिल्ली में संकमण दर एक फीसद से भी नीचे

बता दें कि अनलॉक के तहत अब दिल्ली में दूसरा चरण सोमवार सुबह पांच बजे के बाद से शुरू होगा। दिल्ली में अब कोरोना की संकमण दर एक फीसद से भी नीचे आ गई है। प्रतिदिन कोरोना के मरीज भी एक हजार से नीचे हैं। उधर बाजारों से संबंधित संगठन सख्त नियमों के साथ बाजार खोलने की मांग कर रहे हैं।

दिल्ली के 74 फीसद लोगों की मांग, अनलॉक हो दिल्ली

अनलॉक को लेकर किए गए एक सर्वे में भी 74 फीसद लोगों ने दिल्ली में अनलॉक किए जाने का समर्थन किया था। दिल्ली में 19 अप्रैल रात से लॉकडाउन लगा हुआ है। दिल्ली सरकार इस बात को स्पष्ट कर चुकी है कि कोरोना से लोगों को बचाना उसकी प्राथमिकता में है इसके साथ ही उसे कारोबारियों की भी चिंता है कि उनका काम जल्द से जल्द शुरू हो सके। 

19 अप्रैल से लागू है लॉकडाउन

दिल्ली में लॉकडाउन 19 अप्रैल से जारी है और सात जून की सुबह पांच बजे तक के लिए लागू है। इस अनलॉक के पहले चरण में दो मामलों में 31 मई से छूट दी गई थी। इसमें निर्माण गतिविधियां और औद्योगिक क्षेत्रों में काम करने की इजाजत शामिल है। श्रमिकों की कमी के बावजूद औद्योगिक क्षेत्रों में चारदीवारी या परिसर में मैन्युफैक्चरिंग और प्रोडक्शन यूनिट चलाने का काम धीमी गति से शुरू हो गया है। वहीं निर्माण गतिविधियां भी ध्रीरे धीरे शुरू हो रही हैं। 

इसे भी पढ़ेंः DU के कालेजों में पढ़ने वाले इन छात्रों की फीस होगी माफ, विश्वविद्यालय ने मांगी डिटेल्स

  दिल्ली-NCR में मौसम विभाग के सभी स्टेशन ऑफलाइन, सीएसई ने बताई वजह

Edited By: Jp Yadav