दिल्ली/ सोनीपत, जागरण संवाददाता। पंजाब और हरियाणा के किसानों ने बुधवार को बैठक की। इस बैठक में सभी मांगें पूरी होने पर होगी घर वापसी का निर्णय लिया गया। दरअसल कुंडली बार्डर पर एसकेएम के हरियाणा और पंजाब के संगठनों ने अलग-अलग टेंटों में बैठक की, इसी बैठक में ये निर्णय लिया गया, इसी के साथ ये भी तय किया गया कि मोर्चा के 26 संगठनों के नेता बोले 4 दिसंबर को एसकेएम फैसला लेगा। बैठक में तय किया गया कि सरकार जब सभी मांगें पूरी करेगी तभी धरना खत्म होगा।

किसानों की बैठक में तय किया गया कि आंदोलन में मरने वाले किसानों को शहीद का दर्जा दिया जाए और मुआवजा भी दिया जाए। हरियाणा सरकार किसानों पर दर्ज मुकदमे तुरंत वापस लें, मुख्यमंत्री वार्ता कर सभी समस्याएं खत्म करेें। साथ में

चढ़ूनी ने अलग टेंट में की बैठक, एमएसपी के बिना नहीं जाएंगे घर। केंद्र ने पांच नाम मांगे, मोर्चा ने अभी नाम तय नहीं किए, 4 दिसंबर की बैठक में ये नाम तय किए जाएंगे। इस बैठक में भी कहा गया कि सरकार किासनों पर दर्ज केस वापस ले, शहीद के आश्रितों को मुआवजा मिले, अन्य मांगें भी पूरी हों। दूसरी ओर आंदोलनकारियों में उत्साह भी दिख रहा है।

केंद्र सरकार के कृृषि कानून वापस लेने के बाद उन्होंने घर वापसी की तैयारी कर ली है, कई किसानों ने अपना सामान पैक कर लिया है। किसानों का कहना है कि सरकार उनकी ये मांगे भी मान लेगी वो जल्द अपनी घर वापसी करेंगे। किसानों में इस बात को लेकर भी खुशी है कि काफी दिनों के बाद वो अपने स्वजनों से मुलाकात करेंगे, उनसे मिलकर साथ बैठकर बातचीत कर सकेंगे। आंदोलन का रिजल्ट उनके पक्ष में आया है इससे बड़ी खुशी और क्या हो सकती है।

Edited By: Vinay Kumar Tiwari