नई दिल्ली [नेमिष हेमंत]। इस्लामिक आतंकी द्वारा फ्रांस के एक स्कूल में टीचर की गला काटकर हत्या के मामले में फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल माइक्रोन द्वारा देश से इस्लामिक आतंकवाद को खत्म करने और बोलने की आजादी को मजबूत करने संबंधी बयान पर उन्हें भारत के हिंदूवादी संगठन हिंदू सेना का समर्थन मिला है। यह समर्थन इसलिए मायने रखता है, क्योंकि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान समेत कई इस्लामिक देशों ने फ्रांस के राष्ट्रपति को इस्लामिक फोबिया से ग्रसित बताते हुए उनकी आलोचना की है यही नहीं कल इस्लामिक देशों में फ्रांस में बने उत्पादों का बहिष्कार भी शुरू हो गया है।

इस पर पलटवार करते हुए फ्रांस के राष्ट्रपति ने इसे कुछ अतिवादियों की करतूत बताया साथी उन्होंने इस आतंकवाद के खिलाफ सभी को साथ आने की अपील की है ऐसे में हिंदू सेना ने उनके रुख का समर्थन किया है। हिंदू सेना के अध्यक्ष विष्णु गुप्त गुप्त ने ट्वीट कर कहा - 'इस्लामिक आतंकवाद को खत्म करना सबसे महत्वपूर्ण है। इसमें फ्रांस के साथ भारत खड़ा है। दोनों अच्छे दोस्त हैं। हम उनके दुखों में शामिल है। इस्लामिक आतंकवाद को बढ़ावा देते पाकिस्तान और तुर्की को बेनकाब किया जाना चाहिए।'

मोहम्मद पैगंबर संबंधित कार्टून पर स्कूल में चर्चा कराने के कारण एक इस्लामिक आतंकवादी ने टीचर की गला काटकर हत्या कर दी थी। इसके पहले मोहम्मद पैगंबर का कार्टून प्रकाशित करने पर फ्रांस के एक मैगजीन के दफ्तर पर आतंकी हमला हुआ था।

इन घटनाओं के बाद से फ्रांस में अभिव्यक्ति की आजादी और इस्लामिक आतंकवाद पर बहस तेज हो गई है यह बस विश्व के कई और देशों में भी हो रही है, जिसमें भारत भी शामिल है भारत आतंकवाद से दशकों से पीड़ित रहा है। ऐसे में हिंदू सेना का फ्रांस के राष्ट्रपति के बयान का समर्थन करना बहस को तेज करता है।

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस