नई दिल्ली, जेएनएन। Weather alert in Delhi and NCR: दिल्ली-एनसीआर के साथ पूरे उत्तर भारत में भीषण गर्मी और गर्म हवाओं ने लोगों की दिनचर्या तक प्रभावित कर दी है। पिछले 2-3 दिन के दौरान गर्मी बढ़ने के पीछे चक्रवात वायु (Cyclone vayu) का बेअसर होना बताया जा रहा है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक, अरब सागर में उठा चक्रवात वायु गुजरात को नुकसान पहुंचाए बिना ओमान की ओर बढ़ गया है, जिसके चलते मौसमी परिस्थितियों पर बेहद प्रतिकूल असर पड़ा है। यही वजह है कि दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत में तापमान तो बढ़ा ही साथ ही गर्म हवाओं ने लोगों का हाल बेहाल कर दिया है। 

चक्रवात वायु के बेअसर होने से बढ़ा का लू का असर

दिल्ली के साथ एनसीआर के इलाकों की बात करें तो चक्रवात वायु के बेअसर होने से यहां पर न तो ठंडी हवाएं चलीं और पश्चिमी विक्षोभ प्रभावी हो पाया। इसके चलते जहां दिल्ली के सफदरजंग में 44 डिग्री सेल्सियस के आसपास पहुंच गया तो पालम इलाके में 45 डिग्री के पास। 

वहीं, भारतीय मौसम विभाग (INDIA METEOROLOGICAL DEPARTMENT) के मुताबिक, शनिवार को दिनभर भीषण गर्मी लोगों को परेशानी करेगी, लेकिन देर शाम धूल भरी आंधी चल सकती है। मौसम विभाग के मुताबिक, शनिवार को आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे। शाम के समय 30 से 40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से धूल भरी आंधी चल सकती है तो गर्जन वाले बादल बनने के भी आसार हैं। उधर, स्काईमेट वेदर के मुख्य मौसम विज्ञानी महेश पलावत ने बताया कि जम्मू-कश्मीर में एक नया पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होने जा रहा है। इसका प्रभाव पहाड़ी इलाकों के साथ-साथ दिल्ली तक रहेगा। इसके परिणामस्वरूप रविवार और सोमवार को हल्की बारिश की संभावना है।

स्काइमेट वेदर के मौसम वैज्ञानिक महेश पलावत ने बताया कि 17 और 18 जून को बारिश की तीव्रता बढ़ने की उम्मीद है, क्योंकि वायु 48 घंटे के बाद उत्तर पश्चिम दिशा की ओर फिर से चलेगा। 18 जून को कच्छ पहुंचने के साथ इसके तीव्र रूप में बदलने की संभावना है। इससे दिल्ली-एनसीआर के लोगों को एक बार फिर से भीषण गर्मी से हल्की राहत मिल सकती है। वहीं, मौसम विभाग का अनुमान है कि आज दिल्ली-एनसीआर में आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे। कई इलाकों में बारिश या गरज के साथ बौछारें पड़ सकती हैं। न्यूनतम तापमान में गिरावट आ सकती है। आज यह 43 डिग्री के आसपास रह सकता है।

पानी की कमी से दिमाग पर असर

तापमान बढ़ने के साथ ही लू चलने से हीट स्ट्रोक का खतरा बढ़ गया है। जिला अस्पताल के फिजिशियन डॉ. संतराम ने बताया कि भीषण गर्मी में धूप से बचने के साथ ही पानी और तरल पदार्थों का सेवन अधिक करें। गर्मियों में शरीर से पसीना अधिक निकलता है। इससे सोडियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, जिक की कमी हो जाती है। जिससे थकान, पैरों में जकड़न, और दर्द के साथ ही दिमाग पर असर पड़ता है। इससे भम्र की स्थिति पैदा होती है। तरल की ज्यादा कमी होने पर मरीज को भर्ती करना पड़ता है, उन्हें ड्रिप लगाई जाती है। जिससे पोटैशियम और सोडियम की कमी को पूरा किया जा सकें।

दिल्ली में देरी से पहुंचेगा मानसून

मौसम विभाग ने शुक्रवार को जानकारी देते हुए बताया कि दक्षिण पश्चिम मानसून अभी मुंबई तट तक पहुंचने में एक हफ्ते का वक्‍त और लेगा। ऐसे में भीषण गर्मी से तप रही दिल्‍ली के लिए भी मानसून का इंतजार और लंबा हो गया है। बता दें कि दिल्‍ली में बारिश दक्षिण पश्चिम मानसून से होती है। जो कि मुंबई के रास्‍ते मुख्‍य भूमि में प्रवेश करता हुआ अरावली रेंज के सहारे दिल्‍ली पहुंचता है। इस बार जून के अंतिम सप्‍ताह तक दिल्‍ली में मानसून के पहुंचने की उम्‍मीद थी, लेकिन वायु ने उसे भी खत्‍म कर दिया है। अब दिल्‍ली में भी बारिश के लिए जुलाई तक इंतजार करना पड़ेगा।

प्री मानसून की बारिश में भी फिसड्डी साबित हुई दिल्ली

इस साल गर्मी के तीन माह मार्च, अप्रैल और मई की बारिश में तो दिल्ली 39 फीसद पिछड़ी ही, प्री मानसून की बारिश में भी फिसड्डी ही साबित हो रही है। आलम यह है कि जून का आधा माह बीत गया है, लेकिन अभी तक एक मिलीमीटर बारिश भी नहीं हुई है, जबकि अब तक 15.5 मिमी बारिश हो जानी चाहिए थी। हालांकि, जून के आखिर में बारिश की संभावना बन रही है।

दिल्ली-NCR की ताजा खबरों को पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: JP Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप