नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। जाम के कारण लोगों का परेशान होना आम बात है, लेकिन राजधानी दिल्ली में लगे जाम के कारण शिमला से दिल्ली के इंस्टीट्यूट में प्रवेश के लिए आए एक छात्र के साथ बड़ी वारदात होने से टल गई। चार बदमाशों ने छात्र को बंधक बनाकर उसकी कार में ही उसका अपहरण कर लिया। उत्तम नगर की लालबत्ती पर कार जाम में फंस गई और पीसीआर पर तैनात पुलिसकर्मियों ने एक अपहर्ता को दबोचने के साथ ही अपहृत छात्र को सकुशल बरामद कर लिया। हालांकि तीन अपहर्ता भाग निकले, पुलिस उनकी तलाश कर रही है।

इंस्‍टीट्यूट में प्रवेश लेने के लिए शिमला से आया दिल्‍ली

डीसीपी (पीसीआर) शरत सिन्हा ने बताया कि पीड़ित रिजवल कुमार (21) हिमाचल प्रदेश के शिमला जिले के भलोन गांव के रहने वाले हैं। वह अपने भाई अक्षय के साथ 18 अक्टूबर को जनकपुरी स्थित एक इंस्टीट्यूट में प्रवेश लेने के लिए आए थे। रिजवल इंस्टीट्यूट में प्रवेश के बारे में जानकारी लेने के लिए चले गए और अक्षय बाहर रुक गया। वह इंस्टीट्यूट से कुछ दूर निकल गया। दोपहर में करीब दो बजकर 38 मिनट पर उसने देखा कि उसके भाई रिजवल को कुछ लोग उसी की मारुति आल्टो के-10 कार में जबरदस्ती बिठाकर ले जा रहे हैं।

तुरंत पुलिस को दी सूचना

जब तक वह कार के पास पहुंचा, तब तक चारों बदमाश उसका अपहरण कर कार सहित वहां से भाग निकले थे। उसने तत्काल मामले की सूचना 100 नंबर पर पुलिस को दी। कंट्रोल रूम से पीसीआर को वारदात के बारे में जानकारी मिली तो पीसीआर पर तैनात एएसआइ देवेंद्र सिंह, महिला कांस्टेबल गोमती और कांस्टेबल दीपक ने उक्त इंस्टीट्यूट से उत्तम नगर की तरफ कार की तलाश शुरू की। अक्षय ने पुलिस को बताया था कि कार हिमाचल नंबर की है और उसके आगे के शीशे पर बड़े अक्षरों में हाई लैंडर लिखा हुआ है।

पुलिस ने जाम में फंसी देखी कार

कार की तलाश कर रहे पीसीआर कर्मियों ने उत्तम नगर की लालबत्ती के बाद नजफगढ़ रोड पर कार को जाम में फंसा देख लिया। पुलिस की गाड़ी जैसे ही कार के नजदीक पहुंची तो तीन आरोपित कार से उतरकर भाग निकले। ड्राइविंग सीट पर बैठे आरोपित को दबोच लिया गया। उसकी पहचान उत्तम नगर में रहने वाले रवि उर्फ यश कुमार (23) के रूप में हुई। कार से रिजवल को सकुशल बरामद कर लिया गया।

लूटने के इरादे से पकड़ा था

पूछताछ में पकड़े गए बदमाश ने बताया कि रिजवल को लूटने के उद्देश्य से मोहन गार्डन थाना इलाके के नजफगढ़ रोड स्थित मेट्रो पिलर नंबर 771 के पास रोका। उसके पास से 1650 रुपये और एक कार की चाबी मिली। कार की चाबी मिलने पर बदमाशों ने रिजवल को ऑटो में बिठाया और उसे जनकपुरी स्थित इंस्टिट्यूट के पास खड़ी उसकी कार तक लेकर आए। यहां उसे कार में बंधक बनाकर दिल्ली से बाहर छोड़कर बदमाश कार लूटना चाह रहे थे। पकड़े गए आरोपित पर पहले भी तीन आपराधिक मामले दर्ज हैं।

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

Posted By: Prateek Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप