नई दिल्ली, जेएनएन। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल मंगलवार को कहा कि राजधानी में कोरोना के केस बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं। हम सभी जानते हैं कि इस बार की लहर बहुत खतरनाक है। इस वाली लहर में युवा काफी ज्यादा प्रभावित हो रहे हैं। साथ ही बच्चे भी प्रभावित हो रहे हैं। पिछले 10-15 दिनों का डेटा दिखाता है कि कोरोना के अभी तक जो मरीज आए हैं, उसमें से 65 फीसद मरीज 45 साल से कम उम्र के हैं।

केजरीवाल ने युवाओं से अपील करते हुए कहा कि सभी लोग कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करें ताकि संक्रमण से बचा जा सके। बता दें कि दिल्ली में कोरोना के मामले रोजाना तेजी से बढ़ रहे हैं। संक्रमण रोकने के लिए नाइट कर्फ्यू लगाया गया है। बाजारों में अभी भी कोरोना नियमों का पालन नहीं हो रहा है। लोगों को लापरवाही भारी पड़ रही है।

ये भी पढ़ेंः दिल्ली में एमएसपी से ज्यादा पर बिकी गेहूं की फसल, किसान हुए खुश

दिल्ली में शुरू हुआ छठा सीरो सर्वे

वहीं, दिल्ली में सोमवार से छठा सीरो सर्वे शुरू हुआ। इसके तहत सभी 272 वार्डो से करीब 28 हजार लोगों के ब्लड का सैंपल लेकर एंटीबाडी जांच की जाएगी, ताकि कम्युनिटी में कोरोना के प्रसार का पता चल सके। इसके पहले पांचवें सीरो सर्वे में 56 फीसद लोगों में एंटीबाडी पाई गई थी। दिल्ली में पहला सीरो सर्वे 27 जून से 10 जुलाई के बीच हुआ था। तब 23 फीसद लोगों में एंटीबॉडी पाई गई थी।

ये भी पढ़ेंः बाबा साहेब डिजिटल कला महोत्सवः आप भी घर बैठे आसानी से जीत सकते हैं 75 हजार रुपये इनाम, जानिए तरीका

इसके बाद अगस्त में हुए सीरो सर्वे में करीब 29 फीसद लोगों में एंटीबाडी पाई गई थी। तीसरे व चौथे सीरो सर्वे में करीब 25 फीसद लोगों में एंटीबॉडी मिली थी। पांचवें सीरो सर्वे में 56 फीसद लोगों में एंटीबाडी पाए जाने के बाद यह अनुमान लगाया गया था कि दिल्ली में एक करोड़ से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित होकर ठीक हो चुके हैं। इस वजह से संक्रमण का खतरा कम हो गया है लेकिन कोरोना चौथी लहर ने उन उम्मीदों पर पानी फेर दी।


इसे भी पढ़ेंः Farmer Protest: KGP-KMP एक्सप्रेस-वे जाम करने वाले प्रदर्शनकारियों पर एक्शन, हजार से ज्यादा के खिलाफ FIR

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप