हापुड़, जेएनएन। लोकसभा चुनाव परिणाम के बाद पश्चिम बंगाल समेत कई राज्यों में हिंसा का दौर शुरू हो गया। इस कड़ी में उत्तर प्रदेश में केंद्रीय मंत्री और अमेठी से चुनी गईं स्मृति ईरानी के करीबी भाजपा नेता की हत्या के बाद हापुड़ में भी एक भाजपा नेता की गोली मार कर हत्या करने का मामला सामने आया है।

मिली जानकारी के मुताबिक, हापुड़ के गांव करनपुर में घर के बाहर सो रहे भाजपा के पन्ना प्रमुख की शनिवार रात गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई। निकट में ही सो रहे मृतक के पुत्र ने शोर मचाया तो दोनों बदमाश जंगल की ओर भाग गए।

गांव निवासी चंद्रपाल सिंह पुत्र पूरन सिंह भाजपा के पन्ना प्रमुख थे। उनके पांच पुत्र और एक पुत्री हैं। शनिवार रात वह घर के बाहर सो रहे थे। उनके पुत्र देवेंद्र थोड़ी दूर दूसरी चारपाई पर सो रहे थे। देर रात दो बदमाश वहां आए और चंद्रपाल के पड़ोसी धर्मपाल के घर के बाहर लगे बिजली का बल्ब फोड़कर अंधेरा कर दिया। इसके बाद बदमाशों ने चंद्रपाल को आवाज लगाई। आवाज सुनकर चंद्रपाल जैसे ही उठकर बैठे, बदमाशों ने उनकी कनपटी से सटाकर गोली चला दी, लेकिन निशाना चूक गया। गोली उनकी बायीं आंख में लगी। इसके बाद वह औंधे मुंह नीचे गिर गए। बदमाशों ने चंद्रपाल की कमर में दो गोलियां मारीं।

गोलियों की आवाज सुनकर देवेंद्र की नींद खुली तो उसने शोर मचा दिया। इसके बाद बदमाश पैदल ही जंगल की ओर भाग गए। शोर सुनकर ग्रामीण एकत्रित हो गए, तब तक चंद्रपाल की मौत हो चुकी थी। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मृतक के पुत्र ने बताया कि एक बदमाश ने मुंह पर कपड़ा बांध रखा था। 

यहां पर बता दें कि अमेठी में अपने करीबी सुरेंद्र सिंह की हत्या की सूचना से द्रवित स्मृति ईरानी रविवार को  दिल्ली से लखनऊ के चौधरी चरण सिंह इंटरनेशनल एयरपोर्ट, अमौसी पर उतरने के बाद स्मृति ईरानी सड़क मार्ग से अमेठी पहुंचीं। यहां हजारों लोगों की भीड़ के बीच स्मृति इरानी ने सुरेंद्र के पार्थिव शरीर को घर से लेकर अंत्येष्टि स्थल तक पूरे रास्ते कांधा देते हुए श्मशान तक पहुंचाया।

अमेठी पहुंचकर स्मृति ईरानी ने पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह की हत्या को लोगों को डराने और विघटित करने की साजिश करार दिया है। इससे पहले सुरेंद्र सिंह के घर पहुंचीं स्मृति ईरानी ने परिवार के लोगों से मुलाकात कर उन्हें ढांढस बंधाया और भरोसा दिलाया कि भाई के हत्यारों को फांसी की सजा दिलाने के लिए वह सुप्रीम कोर्ट तक जाएंगी। स्मृति ने पूर्व प्रधान के दोनों बेटियों के साथ ही उनकी पत्नी, मां, भाई व बेटे से मुलाकात कर उन्हें दिलासा दिया कि आज से यह परिवार मेरा है और इसकी जिम्मेदारी भी मेरी।

सुरेंद्र के पुत्र अभय ने कहा कि दीदी हमें न्याय मिलना चाहिए, तो उन्होंने उसे गले लगाते हुए कहा कि यह मेरी लड़ाई है। मैं इसे तब तक लडूंगी जब तक हत्यारों को फांसी नहीं मिल जाएगी। बेटे ने जब उनसे कहा कि पापा की हत्या कांग्रेस का विरोध करने की वजह से हुई है, तो उन्होंने उसे भरोसा दिलाते हुए कहा कि जिसकी वजह से हत्या हुई है वह अब कभी अमेठी नहीं आ पाएगा।

अंतिम संस्कार में शामिल हुए दिग्गज
रास्ते भर जब तक सूरज चांद रहेगा, सुरेंद्र सिंह का नाम रहेगा का नारा गूंजता रहा। इस दौरान अमेठी के प्रभारी मंत्री मोहसिन रजा, राज्यमंत्री सुरेश पासी, तिलोई विधायक मयंकेश्वर शरण सिंह, गौरीगंज विधायक राकेश प्रताप सिंह, सलोन विधायक दल बहादुर कोरी, अमेठी विधायक के प्रतिनिधि अनंत विक्रम सिंह, जिलाध्यक्ष दुर्गेश त्रिपाठी, पूर्व विधायक तेजभान सिंह, पूर्व विधायक गजाधर सिंह सहित हजारों की तादात में भाजपा नेता मौजूद रहे।

दिल्ली-NCR की ताजा खबरों को पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: JP Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप