नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने प्रदूषण रोकने के लिए बनाए गए केंद्र के नए कानून का स्वागत किया है। केन्द्र सरकार के ऑर्डीनेंस पर पूछे गए एक सवाल का जवाब देते हुए पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि प्रदूषण को कम करने के लिए सख्त कदम उठाने की जरूरत है। बिना सख्त कार्रवाई किए प्रदूषण को नियंत्रित नहीं कया जा सकता। उन्होंने कहा कि हम इस कदम का स्वागत करते हैं, लेकिन व्यवस्था बनाने के साथ साथ उसपर अमल करना ज्यादा जरूरी है।

इससे पहले गोपाल राय ने दिल्ली के विभिन्न इलाकों से ‘ग्रीन दिल्ली’ एप के माध्यम से प्रदूषण फैलाने की आ रही शिकायतों के संबंध में गुरुवार को अधिकारियों के साथ ग्रीन वार रूम में बैठक की। उन्होंने बताया कि ग्रीन दिल्ली एप से दिल्ली के 21 विभागों को जोड़ा गया है। इन सभी विभागों में एक-एक नोडल अधिकारी और एक वरिष्ठ अधिकारी को प्रभारी बनाया गया है। सभी नोडल और प्रभारी अधिकारियों को ग्रीन दिल्ली एप के जरिए प्राप्त शिकायतों के संबंध में वार रूम से सामंजस्य स्थापित करने के लिए प्रशिक्षण दिया जा चुका है। वार रूम में 12 को-आर्डिनेटर तैनात किए गए हैं, जो शिकायतों की जांच करेंगे और निर्धारित 48 घंटे में शिकायत निस्तारित कराना सुनिश्चित करेंगे।

ये भी पढ़ेंः दिल्ली-NCR में वायु प्रदूषण रोकने के लिए केंद्र ने बनाया नया कानून, उल्लंघन करने पर 5 साल की सजा व एक करोड़ जुर्माना

गोपाल राय ने कहा कि जिन शिकायतों का निस्तारण नहीं होने पर, उसके लिए 70 ग्रीन मॉर्शल नियुक्त किए गए हैं, जो मौके पर जाकर वास्तविकता की जांच करेंगे। दो नवंबर को सभी विभागों के नोडल अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की जाएगी, ताकि प्राप्त शिकायतों का तय समय सीमा के अंदर निस्तारण किया जा सके।

पर्यावरण मंत्री ने बताया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल द्वारा ‘ग्रीन दिल्ली’ एप का उद्घाटन करने के बाद अभी तक 228 शिकायतें प्राप्त हुई हैं, जो अलग-अलग विभागों से संबंधित है। वार रूम में क्लोज मॉनिटरिग के लिए टीमों का गठन कर दिया गया है। इस एप से लगभग 21 विभाग जुड़े हुए हैं। जिसमें एम.सी.डी., जल बोर्ड, दिल्ली मेट्रो, दिल्ली पुलिस, डी.डी.ए., पी.डब्लू.डी., डी.एस.आई.डी.सी, पर्यावरण विभाग इत्यादि प्रमुख हैं। इन सभी विभागों से एक-एक नोडल अधिकारी नियुक्त किए गए हैं और उनके एक वरिष्ठ अधिकारी को इसका प्रभारी बनाया गया है। इन 42 लोगों की टीम को ट्रेनिग दी गई है। वार रूम में 12 कोआडिर्नेटर बनाए गए हैं, जो एप के माध्यम से प्राप्त शिकायतों की निगरानी करेंगे। अगर समय सीमा के अंदर शिकायत पर कार्रवाई नहीं होती है, तो वे उच्च अधिकारी के साथ संपर्क करके शिकायत का निस्तारण कराने का प्रयास करेंगे।

 

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस