Move to Jagran APP

दिल्ली की फेमस Bengali Market की मिठाई और चाट के चटोरे हैं Big-B समेत बड़ी हस्तियां, एक बार खाकर नहीं भरेगा मन

यूं तो दिल्ली के सभी बाजारों की अपनी-अपनी खासियत है लेकिन बंगाली मार्केट के चाट-समोसे जैसा स्वाद शायद की कहीं मिलता होगा। यही कारण है कि खुद महानायक यानी अमिताभ बच्चन कई बार इस बाजार में स्थित बंगाली स्वीट्स का जिक्र कर चुके हैं।

By Aditi ChoudharyEdited By: Published: Fri, 11 Nov 2022 03:24 PM (IST)Updated: Sat, 12 Nov 2022 07:14 PM (IST)
बंगाली मार्केट में बॉलीवुड से लेकर राजनीति के कई नामी चेहरों का पुराना रिश्ता

नई दिल्ली, जागरण डिजिटल डेस्क। दिल्ली का दिल कहे जाने वाले कनॉट प्लेस से महज चंद कदमों की दूरी पर स्थित बंगाली मार्केट की ब्रांडेड दुकानों के साथ स्ट्रीट फूड का जायका सिर्फ दिल्ली ही नहीं, बल्कि यहां आने वाले हर पर्यटक को अपनी ओर खींचता है।

एक्टर अमिताभ बच्चन से लेकर नामी कारोबारी और उद्योगपति भी बंगाली मार्केट के स्वाद के दीवाने हैं। यह एक आम धारणा है कि सबसे अच्छे गोलगप्पे बंगाली मार्केट में बंगाली स्वीट हाउस में मिलते हैं। वे इसे पूरी तरह से खट्टे और मीठे पानी से बनाते हैं, जिसका स्वाद लाजवाब होता है। 

बंगाली स्वीट्स ही नहीं, यहां पर आसपास की दर्जनों दुकानों के खाने की अपनी खूबी है। बावजूद इसके अलग बात है कि सबसे ज्यादा भीड़ बंगाली स्वीट्स पर ही रहती है। यहां पर हमेशा ही वेटिंग जैसी स्थिति रहती है और लोगों को खाने के लिए कभी-कभार लंबा इंतजार करना पड़ जाता है।

अमिताभ बच्चन और नीना गुप्ता को भी भाता है यहां का स्वाद

सालों पुराना इतिहास समेटे दिल्ली का यह बाजार बॉलीवुड के कई सितारों को उनके पुराने दिनों की याद दिलाता है। अमिताभ बच्चन ने अपने चर्चित शो 'कौन बनेगा करोड़पति' के हाल ही में प्रसारित एपिसोड में बंगाली मार्केट का जिक्र भी किया है। 'कौन बनेगा करोड़पति' शो पर बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर, बोमन ईरानी और अभिनेत्री नीना गुप्ता अपनी नई फिल्म 'ऊंचाई' के प्रमोशन के लिए पहुंचे थे।

कॉलेज के दिनों से अमिताभ को पसंद है यहां की चाट

यहां पर अमिताभ बच्चन और नीना गुप्ता ने दिल्ली में अपने जवानी के दिनों को याद करते हुए बताया कि कॉलेज के दिनों में वे बंगाली मार्टेक में जाकर चाट और समोसे खाने जाते थे। यहां के प्रसिद्ध बंगाली स्टीट्स का भी उन्होंने जिक्र किया। अमिताभ बच्चन ने दिल्ली विश्वविद्यालय के किरोड़ी मल कॉलेज से ग्रेजुएशन की है। इस कॉलेज में उन्होंने थिएटर करने के दौरान अभिनय के गुर भी सीखे। इस बीच जब भी मंडी हाउस आना होता तो बंगाली मार्केट जरूर आते थे और फिर चाट खाना उन्हें खूब भाता था। 

वर्ष 2020 में भी बिग-बी ने केबीसी के एपिसोड में बंगाली मार्केट स्थित बंगाली स्वीट्स का जिक्र किया था। जागरण डिजिटल से बात करते हुए मशहूर बंगाली स्टीट्स के मालिक जगदीश अग्रवाल ने बताया कि अभिताभ बच्चन हमारे पुराने ग्राहक हैं।

कार में पर्दा लगा कर चाट खाते थे अमिताभ बच्चन

फिल्म 'सिलसिला' की शुटिंग के दौरान बिग-बी का इनकी दुकान पर लगभग रोजाना आने का सिलसिला था, जो शूटिंग खत्म होने तक जारी रहा। भीड़ से बचने के लिए अमिताभ बच्चन कार में पर्दा लगाकार चाट का आनंद लेते थे।

1937 में रखी थी बंगाली स्वीट्स की नींव

जगदीश अग्रवाल ने बताया कि उनके पिताजी ने यह दुकान महरौली में शुरू की थी। साल 1937 में उन्होंने बंगाली मार्केट में बंगाली स्वीट्स की नींव रखी। दिल्ली में उस दौर में गिनी चुनी मिठाइयां ही मिलती थीं। ऐसे में कलकत्ता के हलवाइयों को बुलाकर उन्होंने नए-नए मिठाइयों की वैरायटी तैयार करवाई। फिर क्या था? दुकान चल पड़ी।

दिल्ली वालों को भाती हैं बंगाल की मिठाइयां

दिल्ली वालों को तो मानों कोलकाता की मिठाइयों का चस्का लग गया। आज इस दुकान में दिल्ली की सबसे अच्छी और बेहतरीन वैरायटी की मिठाइयां मिलती हैं। यहां के रसगुल्ले और छेने की मिठाइयां काफी प्रसिद्ध हैं। दिल्ली के कुछ लोग तो हमारे साप्ताहिक ग्राहक हैं।

अरविंद केजरीवाल भी अक्सर आते थे बंगाली मार्केट 

बॉलीवुड से लेकर कई बड़े राजनीतिक हस्तियों का बंगाली मार्केट में हर रोज का उठना-बैठना था। जगदीश अग्रवाल ने बताया कि दिलीप कुमार, शायरा बानो, राज कपूर, श्रीदेवी, अनिल कपूर, आशा पारेख, अटल बिहारी बाजपयी, जवाहर लाल नेहरू समेत कई नामी हस्तियां इस बाजार में अक्सर आते थे। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल यहां पर घंटों बैठकें किया करते थे।

बंगाली परिवेश से जुड़े लोग यहां पर खूब आते हैं। यहां का स्ट्रीट फूड भी लाजवाब होता है। चाट, भेल, समोसा, चाउमीन, राज कचौड़ी, पाव भाजी समेत अन्य फूड रात 11 बजे तक मिलते हैं। 

वीकेंड पर घूमने का है प्लान तो दिल्ली के फेमस Garden of Five Senses में जरूर करें सैर

Rajpath New Name: राजपथ अब कहलाएगा कर्तव्य पथ, तीन बार बदले गए नाम, जानिए 100 साल पुराना इतिहास


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.