नई दिल्ली, [जागरण स्पेशल]। भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेले गए चौथे वनडे मैच में मेजबान टीम ने भारतीय टीम को 5 विकेट से मात दे दी। इस जीत के साथ ही मौजूदा वनडे सीरीज में दक्षिण अफ्रीका ने अपनी जीत का खाता भी खोल लिया। लेकिन इस मैच के दौरान भारतीय कप्तान विराट कोहली काफी परेशान नजर आए और उनकी परेशानी का सबब कोई और नहीं बल्कि भारतीय खिलाड़ी ही थे।

इन दो खिलाड़ियों ने कोहली को किया परेशान

वांडरर्स में खेले गए चौथे वनडे मैच में भारतीय कप्तान विराट कोहली की परेशानी का सबब खासतौर से कलाई के दोनों स्पिन गेंदबाज बने रहे। विराट कोहली को अपने दोनों स्पिन गेंदबाजों से काफी आशाएं थी कि वह दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाज पर नकेल कसकर ये मैच टीम इंडिया की झोली में यह मैच डाल देंगे। लेकिन हुआ इसके ठीक उलटा। जैसे ही कोहली ने गेंद स्पिन गेंदबाजों को थमाई दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों ने स्पिनर्स पर अटैक करना शुरू कर दिया। आलम ये रहा कि इस मैच से पहले द. अफ्रीका के 21 विकेट लेने वाले फिरकी गेंदबाज़ों ने सिर्फ 11.3 ओवर में 119 रन लुटा दिए। यानि दोनों भारतीय स्पिन गेंदबाज़ों ने 10 से भी ज़्यादा की इकॉनमी से रन लुटाए। हालांकि इन दोनों गेंदबाज़ों ने मिलकर इस मैच में भी 3 विकेट जरूर चटकाए।

 यह भी पढ़ें:  सिर्फ वांडर्रस ही नहीं, इन मुकाबलों में भी टीम इंडिया पर भारी पड़ी है नो बॉल

काम न आई चहल की चतुराई

कोहली को सबसे ज्यादा परेशान किया चहल ने 5.3 ओवर में 12.36 की इकॉनमी के साथ 68 रन लुटाए और सिर्फ एक विकेट लिया। इतना ही नहीं इस मैच में चहल द्वारा फेंकी गई नो बॉल टीम इंडिया पर भारी पड़ गई। चहल ने नो- बॉल पर मिलर को बोल्ड कर दिया था। जिस समय चहल ने मिलर को नो-बॉल पर आउट किया था तब वो 7 रन बनाकर खेल रहे थे। इसके बाद मिलर को चहल ने ही एलबीडब्ल्यू आउट किया, लेकिन तब तक मिलर 28 गेंदों में 39 रन बनाकर द. अफ्रीका को जीत की राह दिखा चुके थे।

कुलदीप भी नहीं कर सके कमाल

कुलदीप यादव ने 2 विकेट जरूर लिए लेकिन उन्होंने भी 6 ओवर में 2 विकेट लेकर 51 रन दिए वो भी 8.50 की इकॉनमी से। आलम यह रहा कि जिस स्पिन जोड़ी से विराट कोहली को काफी उम्मीदें थी उन दोनों ही गेंदबाजों ने कोहली की परेशानी को और बढ़ा दिया।

यह भी पढ़े:  देखें, एक ही गेंद पर दो बार आउट हुआ द. अफ्रीकी बल्लेबाज़, फिर भी नहीं मिला विकेट

कोहली से भी हुई ये गलती

बारिश की वजह से आउट फील्ड गीली थी और स्पिन गेंदबाजों को गेंद को ग्रिप करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। ऐसे में कोहली को स्पिनर्स को छोड़कर तेज गेंदबाजों पर अपना भरोसा दिखाना चाहिए था लेकिन कोहली को ये उम्मीद थी कि स्पिन गेंदबाज आखिर में विकेट लेकर मैच का पासा पलट सकते हैं। लेकिन ऐसा नहीं हुआ, उल्टा कोहली का दांव टीम इंडिया पर उल्टा पड़ गया। न तो स्पिन गेंदबाज़ विकेट ही ले सके और न ही रनों की गति पर लगाम लगा सके।

डिविलियर्स ने निभाया अहम रोल

द. अफ्रीका की जीत में एबी डिविलियर्स का भी काफी अहम रोल रहा। इस मैच में भारतीय गेंदबाज़ों की पिटाई की शुरुआत डिविलियर्स ने ही की थी। डिविलियर्स ने 18 गेंदों में 26 रन की पारी खेली और इस पारी के दौरान उन्होंने चहल के एक ही ओवर में लगातार दो लंबे लंबे छक्के जड़कर अपने मंसूबे जाहिर कर दिए थे, लेकिन अगले ओवर में वो आउट हो गए और फिर मिलर ने अपना किलर अंदाज़ दिखाना शुरू कर दिया। मिलर के आउट होने के बाद कार्लसेन और एंदीले फेलुक्वायो ने अपनी टीम को जीत दिला दी और सीरीज़ में अपनी जीत का खाता खोल दिया। इस जीत के साथ ही द. अफ्रीका ने गुलाबी कपड़ों में खेलते हुए कभी न हारने के रिकॉर्ड को भी बरकरार रखा।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Pradeep Sehgal