रांची, जागरण संवाददाता। India vs South Africa 3rd Test Rohit Sharma: टीम इंडिया के ओपनर रोहित शर्मा को हमेशा से पता था कि टेस्ट में सलामी बल्लेबाज के तौर पर अपनी नई भूमिका में मिले मौकों का उन्हें सर्वश्रेष्ठ इस्तेमाल करना होगा। रोहित ने रांची टेस्ट की पहली पारी में दोहरा शतक जड़ने के बाद कहा कि अगर वह ऐसा नहीं करते तो लंबे प्रारूप में उनकी संभावनाओं पर काफी असर पड़ सकता था।

मीडिया गलत लिखती- रोहित

दाएं हाथ के बल्लेबाज रोहित शर्मा ने कहा, "अगर मैं रन नहीं बनाता तो काफी कुछ होने वाला था, नहीं तो आप मेरे बारे में काफी कुछ लिख देते। मुझे पता था कि इसका पूरा फायदा उठाना होगा, अन्यथा मीडिया मेरे खिलाफ लिखता। अब मुझे पता है कि सभी मेरे बारे में अच्छी बातें लिखेंगे।" उन्होंने आगे कहा, "पारी का आगाज करना मेरे लिए अच्छा मौका था।"

टीम मैनेजमेंट से हो रही थी बात

32 वर्षीय रोहित शर्मा ने इस बात का भी खुलासा किया है कि उनके और टीम प्रबंधन के बीच काफी समय से ओपनिंग को लेकर बात चल रही थी। इसलिए वे ओपनिंग को लेकर मानसिक रूप से तैयार थे। रोहित बोले, "मुझे पता था कि ऐसा कभी भी हो सकता है। अगर इस पारी की बात करूं तो मैं कहूंगा कि यह सबसे चुनौतीपूर्ण थी। मैं ज्यादा(30 टेस्ट) नहीं खेला, लेकिन ये जानता हूं कि ये काफी चुनौतीपूर्ण पारी थी।" 

ये पारी काफी अलग- हिटमैन

शॉर्ट फॉर्मेट के सबसे खतरनाक सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा ने बताया, 'पारी का आगाज करना छठे-सातवें नंबर पर बल्लेबाजी से अलग चुनौती है। यह इस पर निर्भर करता है कि आपने कैसी तैयारी की है, आप मैदान पर उतरकर क्या करना चाहते हो, क्या हासिल करना चाहते हो। मैच की पहली गेंद का सामना करना, 30-40 ओवर के बाद खेलने की तुलना में बिलकुल अलग है।"

उधर, रोहित शर्मा के दोहरे शतक को और पूरी सीरीज के प्रदर्शन से प्रभावित साउथ अफ्रीकाई टीम के पूर्व कप्तान ग्रीम स्मिथ ने कहा है, "रोहित बेहद ही प्रेरित करते हैं और उनकी यह पारी उनके अनुशासन का नतीजा है। उनकी रणनीति ही उन्हें टेस्ट क्रिकेट का सबसे बेहतरीन बल्लेबाज बनाती है।"

Posted By: Vikash Gaur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप