Move to Jagran APP

भारत को धड़ल्ले से कच्चे तेल का निर्यात कर रहा रूस, ऑयल कंपनियों को डिस्काउंट रेट पर क्रूड की सप्लाई

Crude Oil Import India भारत की ओर से रूसी कच्चे तेल की खरीद अब के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है। भारत के कुल कच्चे तेल आयात में रूस की हिस्सेदारी 28 प्रतिशत हो गई है। (जागरण फाइल फोटो)

By Abhinav ShalyaEdited By: Abhinav ShalyaPublished: Mon, 06 Feb 2023 12:03 PM (IST)Updated: Mon, 06 Feb 2023 12:14 PM (IST)
India Crude oil import from Russia on highest level

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। भारत की ओर से रूस से कच्चे तेल का आयात लगातार बढ़ता जा रहा है और जनवरी में अब तक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है। यह लगातार चौथा महीना है, जब रूस से कच्चे तेल का आयात पारंपरिक आपूर्तीकर्ता मध्य पूर्व के देशों से अधिक रहा है। ये सब रूस की ओर से कच्चे तेल की खरीद पर बाजार के मुकाबले भारतीय तेल कंपनियों को दिए जा रहे डिस्काउंट के कारण संभव हो पाया है।

loksabha election banner

कार्गो परिवहन पर नजर रखने वाली वार्टेक्सा के आंकड़ों के अनुसार, रूस- यूक्रेन युद्ध से पहले भारत के कच्चे तेल आयात में रूस का हिस्सा एक प्रतिशत से भी कम था, जो कि अब बढ़कर 1.27 मिलियन बैरल प्रतिदिन या 28 प्रतिशत हो गया है।

दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा तेल खरीददार

अमेरिका और चीन के बाद भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा तेल खरीददार देश है। युद्ध के बाद अमेरिका और पश्चिमी देशों की ओर से प्रतिबंध लगाए जाने के कारण रूस को कच्चे तेल बिक्री में मुश्किलों का सामना पड़ा रहा है,जिस कारण रूस अपने कच्चे तेल खरीददारों को डिस्कांउट दे रहा है।

रूस से कच्चे तेल की खरीद जारी रखेगा भारत

इंडिया एनर्जी वीक 2023 में अधिकारियों की ओर से कहा गया कि भारत लगातार अपनी ऊर्जा संबंधी जरूरतों को पूरा करने के लिए रूस से कच्चे तेल की खरीद जारी रखेगा।

किन देशों से भारत ने आयात किया कच्चा तेल

रूस के अलावा भारत के कच्चा तेल आपूर्ती करने के मामले में इराक, सऊदी अरब, अमेरिका, यूएई और अफ्रीकी देशों का नंबर आता है। बता दें, यूक्रेन से युद्ध के बाद रूस का अधिकतर कच्चा तेल का निर्यात भारत, चीन, और एशियाई देशों को हो रहा है।

(एजेंसी इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें-

RBI MPC की बैठक में तय होगी अगली मौद्रिक नीति, 8 फरवरी को होगा Repo Rate का ऐलान

Twitter डील पर Elon Musk ने जाहिर की पीड़ा- मुश्किल भरे थे पिछले तीन महीने, कंपनी को दिवालिया होने से बचाया

 


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.