नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। अगर आप वित्तीय योजना बना रहे हैं तो नया वित्त वर्ष इसके प्रबंधन का लिए अच्छा समय है। साल में कम से कम 1 बार अपने निवेश पोर्टफोलियो की समीक्षा करना उचित है। निवेशक समीक्षा करने की जगह कुछ नए कदम उठा सकते हैं, एसआईपी शुरू कर सकते हैं, इमरजेंसी के लिए फंड जोड़ सकते हैं और खर्च किस प्रकार हो रहा है ये देख सकते हैं।

सैलरी बढ़ने का समय: अप्रैल में ही अधिकतर कर्मचारियों की सैलरी में सालाना वृद्धि होती है। सैलरी के इस बढ़े हुए हिस्से को कई जगह इस्तेमाल किया जा सकता है। इसे SIP के जरिए म्यूचुअल फंड में निवेश किया जा सकता है, इसमें आप न्यूनतम 500 रुपये के साथ शुरू कर सकते हैं।

इमरजेंसी के लिए फंड: निवेश के अलावा अलग से इमरजेंसी फंड भी रखना जरूरी होता है। यह फंड इमरजेंसी में पैसे की जरूरत जैसे नौकरी छूटने, बड़ी बीमारी या अन्य किसी दिक्कत के वक्त काम आता है। यह फंड औसतन 6-8 महीने के मासिक खर्च के बराबर होना चाहिए। अगर आपके पास ऐसा फंड है तो आप किसी निवेश को खराब किए बिना अपने काम कर पाएंगे।

फॉर्म 15एच, 15जी जमा करें: अंतरिम बजट 2019 में बैंकों और पोस्ट ऑफिस डिपॉजिट से मिलने वाले ब्याज पर टीडीएस में कटौती की सीमा को 10 हजार से बढ़ाकर 40 हजार रुपये तक कर दिया है। इसके अलावा वित्त वर्ष 2020 के लिए 5 लाख तक की इनकम वाले लोगों को किसी भी टैक्स को भरने की जरूरत नहीं होगी। वित्त वर्ष 2019-20 के लिए अंडर सेक्शन 87ए के तहत उपलब्ध टैक्स में छूट 2,500 रुपये से बढ़ाकर 12,500 रुपये कर दी गई है।

अगर ब्याज से अर्जित आय 40 हजार रुपये से अधिक हो जाती है, लेकिन कुल आय 2.5 लाख से नीचे है तो बैंक के साथ 15एच या 15जी फॉर्म जमा करना होगा। इसे टीडीएस से बचने के लिए अप्रैल के माह में जमा किया जाना चाहिए। बैंकों में इन दिनों फॉर्म 15जी और 15एच ऑनलाइन जमा करने की भी सुविधा है।

एक साथ अधिक निवेश नहीं करना चाहिए: अगले साल के निवेश के लिए अप्रैल महीना सही है, लेकिन वित्त वर्ष 2019-20 के लिए एक साथ टैक्स सेविंग की प्लानिंग एक साथ नहीं होनी चाहिए। क्योंकि अंतरिम बजट को ध्यान में रखते हुए बजट के नियमों में बदलाव हो सकता है, इसलिए एक साथ निवेश करने से बचें।

इनकम और खर्च की समीक्षा करना: सभी को अपनी इनकम और खर्च पर पूरी नजर रखनी चाहिए। बहुत बार लोगों को यह पता ही नहीं होता कि वो कितनी सेविंग कर सकते हैं। सभी लोगों को अपने खर्चों के बारे में पूरी जानकारी रखनी चाहिए और जो जरूरी नहीं है उस खर्च को रोक कर निवेश करना चाहिए। 

Posted By: Sajan Chauhan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस