Move to Jagran APP

Air India में क्यों अपना निवेश बढ़ा रही है सिंगापुर एयरलाइन, जानें क्या है इसके पीछे की रणनीति

SIA Investment in Air India एसआईए ने 2022 में विस्तारा में अपने 49 प्रतिशत के हिस्से को एयर इंडिया की 20 प्रतिशत हिस्सेदारी में परिवर्तित कर दिया था। इसके साथ अतिरिक्त निवेश का भी एलान किया था। (जागरण फाइल फोटो)

By AgencyEdited By: Abhinav ShalyaMon, 30 Jan 2023 04:00 PM (IST)
Why is Singapore Airline invest in Air india

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। सिंगापुर एयरलाइन्स ग्रुप (SIA) की ओर से दिसंबर 2022 के परिचालन के आंकड़े जारी किए गए हैं, जिसमें खुलासा हुआ है कि ग्रुप की दोनों एयरलाइन एसआईए और स्कूट का ट्रैफिक पिछले महीने के मुकाबले 12 प्रतिशत बढ़ गया है और एक साल के मुकाबले चार गुना हो गया है। दिसंबर में दोनों एयरलाइन में 27 लाख यात्रियों ने यात्रा की थीं। 2022 के पूरे वर्ष के लिए ये आंकड़ा 2.07 करोड़ यात्रियों का था।

एयरलाइन की ओर से कहा गया कि हांगकांग, जापान और ताइवान में एयर ट्रैवल बैन हटने से मांग में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। हालांकि, दिसंबर 2019 के मुकाबले यह 76 प्रतिशत पर है। इस दौरान ग्रुप की दोनों एयरलाइनों में 35.4 लाख यात्रियों ने सफर किया था।

पैसेंजर लोड फैक्टर (PLF)

दिसंबर 2022 में एसआईए का पैसेंजर लोड फैक्टर (PLF)89.7 प्रतिशत रहा था, जो कि पिछले महीने के मुकाबले 3.8 प्रतिशत अधिक था। साल-दर-साल आधार पर 43.2 प्रतिशत अधिक है। एयरलाइन के इतिहास में दर्ज किया गया। ये सबसे अधिक ट्रैफिक है।

रिकवरी का भी मिल रहा फायदा

चीन की जीरो कोविड पॉलिसी हटने के बाद मांग में इजाफा देखने को मिल रहा है। 30 दिसंबर को ही सिंगापुर और बीजिंग के बीच उड़ान को फिर से शुरू कर दिया गया है। एसआईए पहले से ही बेंगलुरु, चेन्नई, दिल्ली, दुबई, हैदराबाद, काठमांडू, कोच्चि, कोलकाता और मुंबई जैसे शहरों के लिए उड़ान शुरू कर चुकी है।

एसआईए कर रहा एयर इंडिया में निवेश

नवंबर 29 को सिंगापुर एयरलाइन की ओर से घोषणा की कि वह विस्तारा में 49 प्रतिशत के हिस्से के बदले एयर इंडिया में 20 प्रतिशत का हिस्सा लिया जा रहा है। एसआईए 615 मिलियन डॉलर का अतिरिक्त निवेश करेगी।

टाटा ग्रुप की ओर से एयर इंडिया को पिछले साल जनवरी में खरीदा गया था, जिसके बाद से टाटा ग्रुप एयरलाइन को मुनाफे में लाने के लिए बड़े बदलाव कर रहा है।

ये भी पढ़ें-

Share Market में गिरावट का असर, केवल एक हफ्ते में SBI, Reliance और HDFC समेत इन शेयरों में डूबे 2.16 लाख करोड़

Hindenberg विवाद के बाद Adani Group का बयान- निवेशकों को हम पर पूरा विश्वास, FPO में नहीं होगा कोई बदलाव