राजीव कुमार, नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और वाणिज्य व उद्योग मंत्री पीयूष गोयल इस बात को कई बार दोहरा चुके हैं कि देश को विकसित बनाने के लिए निर्यात में बढ़ोतरी सबसे जरूरी है। वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक देश के सिर्फ चार राज्य 60 प्रतिशत से अधिक का निर्यात कर रहे हैं। 12 राज्य और केंद्रशासित प्रदेशों का देश से होने वाले वस्तुओं के निर्यात में एक प्रतिशत से भी कम का योगदान है तो 10 राज्य और केंद्रशासित प्रदेश निर्यात में कोई योगदान नहीं देते हैं। यही वजह है कि गत रविवार को नीति आयोग की गवर्निग काउंसिल की बैठक में प्रधानमंत्री ने सभी राज्यों को निर्यात बढ़ाने को लेकर पर्याप्त कदम उठाने के लिए कहा। मंत्रालय ने वन डिस्टि्रक्ट वन प्रोडक्ट कार्यक्रम के तहत राज्यों क मदद से 600 से अधिक जिलों के लिए उत्पादों का चयन कर लिया है, जिनके निर्यात की पूरी संभावना है। चालू वित्त वर्ष 2022-23 में वस्तुओं के निर्यात को 500 अरब डालर तक ले जाने की तैयारी है।

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक गत वित्त वर्ष 2021-22 में 421.9 अरब डालर का रिकार्ड निर्यात किया गया और इनमें से 261 अरब डालर का निर्यात सिर्फ चार राज्यों ने किया। इन राज्यों में गुजरात, महाराष्ट्र, तमिलनाडु और कर्नाटक शामिल हैं। गत वित्त वर्ष में अकेले 126 अरब डालर का निर्यात करके गुजरात सबसे आगे हैं। वस्तुओं के कुल निर्यात में गुजरात की हिस्सेदारी 30.06 प्रतिशत है। गुजरात के बाद महाराष्ट्र ने 73.1 अरब डालर का निर्यात किया और महाराष्ट्र की हिस्सेदारी 17.33 प्रतिशत रही। तमिलनाडु 8.34 प्रतिशत की हिस्सेदारी के साथ 35.2 अरब डालर का निर्यात किया तो कर्नाटक ने 6.14 प्रतिशत की हिस्सेदारी के साथ 25.9 अरब डालर का निर्यात किया। 21 अरब डालर निर्यात के साथ उत्तर प्रदेश पांचवें स्थान पर है और वस्तुओं के निर्यात में उसकी हिस्सेदारी 4.99 प्रतिशत है।

वस्तुओं के निर्यात में राज्यों की हिस्सेदारी

हरियाणा ------ 3.9 प्रतिशत

पंजाब ------ 1.68 प्रतिशत

मध्य प्रदेश ---- 1.86 प्रतिशत

दिल्ली ---- 1.96 प्रतिशत

छत्तीसगढ़ --- 0.80 प्रतिशत

बिहार ----- 0.55 प्रतिशत

झारखंड ---- 0.58 प्रतिशत

हिमाचल प्रदेश ---0.51 प्रतिशत

उत्तराखंड ---- 0.46 प्रतिशत

जम्मू-कश्मीर --- 0.06 प्रतिशत

असम ----0.11 प्रतिशत

निर्यात में शून्य योगदान वाले राज्य

सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, मेघालय, नागालैंड, त्रिपुरा, मणिपुर, मजोरम, अंडमान निकोबार, लद्दाख और  लक्षद्वीप का निर्यात में शून्‍य योगदान है।

Edited By: Manish Mishra