न्यूयार्क। दुनिया की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर निर्माता कंपनी माइक्रोसॉफ्ट की कमाल भारतीय मूल के सत्या नडेला के पास हो सकती है। माइक्रोसॉफ्ट के नए मुख्य कार्यकारी (सीईओ) अधिकारी बनने की दौड़ नडेला का नाम सबसे ऊपर चल रहा है।

एक समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक, आगामी मुख्य कार्यकारी अधिकारी की खोज के लिए कंपनी भारतीय मूल के सत्या नडेला और फोर्ड मोटर कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एलान मुलाली के नाम पर प्रमुखता से विचार कर रही है।

पढ़ें : एप्पल दुनिया का सबसे कीमती ब्रांड

गौरतलब है कि माइक्रोसॉफ्ट के वर्तमान मुख्य कार्यकारी अधिकारी स्टीव बामर ने इस साल अगस्त में यह घोषणा की थी कि वह 12 महीने में सेवानिवृत्त होना चाहते हैं। इसके बाद से कंपनी तेजी से अपने नए मुखिया के चुनाव में लग गई है। सत्या नडेला अभी माइक्रोसॉफ्ट के कार्यकारी उपाध्यक्ष हैं। बाकी ये चार दौड़ में माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ स्टीव बालमर की जगह लेने वालों में सत्या के अलावा फोर्ड मोर्ट्स कंपनी के वर्तमान प्रमुख एलन मुलाली, नोकिया के पूर्व सीईओ स्टीफन इलोप और स्काइप के पूर्व सीईओ टॉनी बैटेस भी शामिल हैं।

गुमनाम होगा नोकिया का नाम, ब्रैंड नेम के इस्तेमाल का हक खोया

सूत्रों के मुताबिक सूची में पांच व्यक्ति शामिल हैं, पांचवें नाम का खुलासा नहीं हो पाया है। हांलाकि, सीईओ सर्च कमेटी ने लाइफ साइंस और उपभोक्ता कंपनियों से जुड़े कई सीईओ के इंटरव्यू किए थे। शुरुआत में इस सूची में 40 लोगों का नाम था। माइक्रोसॉफ्ट के सूत्रों का कहना है कि अंतिम संभावितों की सूची के बाद भी इस प्रक्रिया में अभी कई महीने लग सकते हैं।

गौरतलब है कि बालमर ने अगस्त में कहा था कि वह 12 महीनों के अंदर रिटायर हो जाएंगे। 4 अप्रैल 1975 को पॉल एलेन के साथ मिलकर बिल गेट्स ने माइक्रोसॉफ्ट की स्थापना की थी। माइक्रोसॉफ्ट की बदौलत ही बिल गेट्स वर्ष 1995 से 2009 तक (वर्ष 2008 को छोड़कर) दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति बने रहे।