नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। सरकार ने मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही के जीडीपी के आंकड़े जारी कर दिये हैं। आंकड़ों के अनुसार, मौजूदा वित्त वर्ष यानी 2020-21 की पहली तिमाही में जीडीपी में 23.9 फीसद की नेगेटिव ग्रोथ दर्ज की गई है। जीडीपी के आंकड़ों में यह गिरावट इसलिए है, क्योंकि मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही में कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन के चलते औद्योगिक गतिविधियां बुरी तरह प्रभावित रही थीं। कड़े देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान तो सिर्फ आवश्यक सामानों और आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी आर्थिक गतिविधियां ठप रहीं।

गौरतलब है कि सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए 25 मार्च से देशव्यापी लॉकडाउन लागू किया था। इसके बाद केंद्र सरकार ने 20 अप्रैल से विभिन्न आर्थिक गतिविधियों के लिए धीरे-धीरे लॉकडाउन में ढील देना शुरू किया था।

देश में साल 1996 में जीडीपी के तिमाही आंकड़े जारी होना शुरू हुए थे। तब से लेकर अब तक यह देश की जीडीपी में सबसे बड़ी गिरावट है। साथ ही यह एशिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में से भी सबसे अधिक गिरावट है।

यह भी देखें: 40 साल में भारतीय अर्थव्यवस्था में अब तक की सबसे बड़ी गिरावट, GDP में 23.9 फीसदी की भारी गिरावट

(यह भी पढ़ेंः India GDP Q1 Data: जानिए क्या होती है जीडीपी और कैसे की जाती है इसकी गणना)

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSO) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, पिछले वित्त वर्ष अर्थात 2019-20 की समान तिमाही में जीडीपी में 5.2 फीसद का विस्तार दर्ज किया गया था।

कई रेटिंग एजेंसियों ने देश की जीडीपी में वित्त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही के लिए नेगेटिव ग्रोथ का अनुमान लगाया था। वहीं, चीन की अर्थव्यवस्था की बात करें, तो साल 2020 की जनवरी से मार्च तिमाही में 6.8 फीसद की गिरावट के बाद इसमें अप्रैल से जून तिमाही में 3.2 फीसद की ग्रोथ दर्ज हुई है।

यह भी पढ़ें: How to Download Aadhaar Card खो गया है आधार तो ना हों परेशान, अपने मोबाइल में ऐसे डाउनलोड करें आधार कार्ड

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस