Move to Jagran APP

दुनिया में मंदी की आहट के बीच भारतीय अर्थव्यवस्था ने पकड़ी रफ्तार, सितंबर में निर्यात बढ़कर 35 बिलियन डॉलर हुआ

Import- Export Data सरकार की ओर से जारी किए गए डाटा के मुताबिक सितंबर में भारत का निर्यात 4.82 प्रतिशत बढ़कर 35.45 बिलियन डॉलर पहुंच गया है। इसके साथ ही समान अवधि में आयात बढ़कर 60 बिलियन डॉलर को पार कर गया है।

By Abhinav ShalyaEdited By: Sat, 15 Oct 2022 09:58 AM (IST)
India Export increase to 35 billion dollar in September

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। भारत की अर्थव्यवस्था का आकार बढ़ने के साथ आयात-निर्यात में भी बढ़ोतरी हो रही है। सरकार की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, सितंबर में भारत का व्यापारिक वस्तुओं का निर्यात (Merchandise Export) पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 4.82 प्रतिशत बढ़कर 35.45 बिलियन डॉलर हो गया है। इसके साथ ही समान अवधि में कुल आयात 8.66 प्रतिशत बढ़कर 61.61 बिलियन डॉलर पर पहुंच गया है।

आज ही शुरू करें अपना शेयर मार्केट का सफर, विजिट करें- https://bit.ly/3n7jRhX

आंकड़ों में बताया गया कि इस साल सितंबर में भारत का व्यापारिक घाटा 25.71 बिलियन डॉलर पर पहुंच गया है, जो कि सितंबर 2021 में 22.47 बिलियन डॉलर था। भारत के आयात-निर्यात में वृद्धि ऐसे समय पर हो रही है, जब दुनिया में मंदी की आशंका बनी हुई है और यह भारतीय अर्थव्यवस्था की मजबूती को दिखाता है।

21 प्रतिशत बढ़ सकता है निर्यात

भारत का कुल निर्यात (वस्तुओं और सेवाओं) इस वित्त वर्ष की पहली छमाही (अप्रैल- सितंबर 2022) में 382.31 बिलियन डॉलर पहुंचने का अनुमान है और यह पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 21.03 प्रतिशत अधिक है। वहीं, कुल आयात इस वित्त वर्ष की पहली छमाही में पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 37.77 प्रतिशत बढ़कर 469.47 बिलियन डॉलर पहुंच सकता है।

व्यापारिक घाटे में बड़ा उछाल

सरकारी की ओर से जारी आकड़ों में बताया गया है कि अप्रैल- सितंबर 2022 के बीच व्यापारिक घाटा पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 94.69 प्रतिशत बढ़कर 148.46 बिलियन डॉलर पहुंचने का अनुमान है, जो कि अप्रैल-सितंबर 2021 के बीच 76.25 बिलियन डॉलर था।

तेजी से बढ़ रही भारतीय अर्थव्यवस्था

दुनिया में मंदी की आहट के बीच भी भारतीय अर्थव्यवस्था की रफ्तार तेज बनी हुई है। सरकार के द्वारा जारी जीडीपी के डाटा के मुताबिक, इस वित्त वर्ष की पहली तिमाही में भारतीय अर्थव्यवस्था में 13.50 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई थी। आरबीआइ के ताजा अनुमान के अनुसार, चालू वित्त वर्ष में भारत की जीडीपी 7.00 प्रतिशत की दर से बढ़ सकती है।

(एजेंसी इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें-

वैश्विक चुनौतियों के बावजूद सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक होगा भारत: आरबीआइ गवर्नर शक्तिकांत दास

Forex Reserve: थम गया लगातार गिरावट का सिलसिला, 204 मिलियन डॉलर बढ़कर 532 बिलियन हुआ विदेशी मुद्रा भंडार