Move to Jagran APP

Forex Reserve: थम गया लगातार गिरावट का सिलसिला, 204 मिलियन डॉलर बढ़कर 532 बिलियन हुआ विदेशी मुद्रा भंडार

Forex Reserve रुपये में लगातार हो रही गिरावट को रोकने के लिए आरबीआई ने विदेशी मुद्रा बाजार में जमकर हस्तक्षेप किया है। इसके चलते हाल के दिनों में विदेशी मुद्रा भंडार गिर रहा था। इससे अब बाजार भी संभाल जाएगा।

By Siddharth PriyadarshiEdited By: Fri, 14 Oct 2022 07:33 PM (IST)
Forex Reserve: थम गया लगातार गिरावट का सिलसिला, 204 मिलियन डॉलर बढ़कर 532 बिलियन हुआ विदेशी मुद्रा भंडार
India forex reserves rose by USD 204 million for the week ended October 7

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। सात अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 204 मिलियन अमेरिकी डॉलर बढ़कर 532.868 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया। रिजर्व बैंक ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। पिछले सप्ताह भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 4.854 बिलियन अमरीकी डॉलर घटकर 532.664 बिलियन अमरीकी डॉलर हो गया था।

आपको बता दें कि पिछले कई हफ्तों से विदेशी मुद्रा भंडार गिर रहा था, क्योंकि केंद्रीय बैंक रुपये में होने वाली गिरावट को रोकने के लिए लगातार डॉलर बेच रहा था। अक्टूबर 2021 में देश की विदेशी मुद्रा किटी 645 बिलियन अमरीकी डालर के सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गई थी।

थमा गिरावट का सिलसिला

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा जारी साप्ताहिक सांख्यिकीय डाटा के अनुसार, विदेशी मुद्रा आस्तियां (FCA) जो समग्र भंडार का एक प्रमुख घटक हैं 7 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह के दौरान 1.311 बिलियन अमरीकी डॉलर की गिरावट के साथ 471.496 बिलियन अमरीकी डॉलर हो गईं। आपको बता दें कि एफसीए में विदेशी मुद्रा के रूप में डॉलर के अलावा यूरो, पाउंड और येन जैसी इकाइयां शामिल हैं।

सोने की होल्डिंग वैल्यू भी बढ़ी

आरबीआई ने कहा कि 7 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह के लिए कुल विदेशी मुद्रा भंडार में वृद्धि सोने की होल्डिंग के मूल्य में बढ़ोतरी के कारण हुई है। यह 1.35 अरब अमेरिकी डॉलर बढ़कर 38.955 अरब अमेरिकी डॉलर हो गई। विशेष आहरण अधिकार (एसडीआर) 155 मिलियन अमरीकी डालर बढ़कर 17.582 बिलियन अमरीकी डालर हो गया। आंकड़ों से पता चलता है कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के साथ देश का रिजर्व 10 मिलियन अमरीकी डॉलर बढ़कर 4.836 बिलियन अमरीकी डॉलर हो गया।

ये भी पढ़ें-

Infosys Share Repurchase: 9,300 करोड़ के बायबैक ऑफर का इन्फोसिस की सेहत पर क्या होगा असर, जानें सभी डिटेल

Moonlighting पर सख्त इन्फोसिस, कहा- एक साथ दो नौकरियां करने वालों को संस्थान में जगह नहीं