नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। इनकम टैक्स भरना बहुत से लोगों को झंझट भरा काम लगता है। लोग इस बात को लेकर हमेशा कंफ्यूज रहते हैं कि उन्हें कौन-सा आईटीआर फॉर्म भरना चाहिए। मौजूदा समय में इनकम टैक्स भरने के लिए आईटीआर-1 से लेकर आईटीआर-7 तक कई फॉर्म हैं, जिन्हें आयकर भरने वाले व्यक्ति को अपनी जरूरत के हिसाब से चुनना पड़ता है। कई करदाताओं को गलत फॉर्म के कारण पेनल्टी या फिर आयकर नोटिस का भी सामना करना पड़ता है।

आज ही शुरू करें अपना शेयर मार्केट का सफर, विजिट करें- https://bit.ly/3n7jRhX

इसी समस्या को कम करने के केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने एक कॉमन आरटीआर फॉर्म का प्रस्ताव रखा है। इसमें आरटीआर 7 को छोड़कर सभी आरटीआर यानी एक से छह तक को मर्ज करने के बारे में कहा है। इसके लिए सीबीडीटी ने इस प्रस्ताव पर सभी पक्षकरों से 15 दिसंबर तक सुझाव मांगे हैं।

Income Tax फाइल करना हो जाएगा आसान

अगर सीबीडीटी का आरटीआर फॉर्म एक से छह तक मर्ज करने का प्रस्ताव अमल में लाया जाता है, तो इनकम टैक्स भरना पहले के मुकाबले काफी आसान हो जाएगा। इनकम टैक्स भरने वाला कोई भी व्यक्ति आसानी से केवल एक फॉर्म भरकर अपना टैक्स जमा कर सकता है। इससे गलत फॉर्म चुनने के कारण लगने वाली पेनल्टी और नोटिस से भी छुटकारा मिल जाएगा। बता दें, इसे सरकार की ओर से आयकर प्रक्रिया को आसान करने की पहल के रूप में देखा जा रहा है।

क्या सभी ITR फॉर्म बंद हो जाएंगे? 

सीबीडीटी की ओर से जारी प्रेस रिलीज में बताया गया कि मौजूदा आईटीआर 1 से लेकर आईटीआर 4 बना रहेगा। इनकम टैक्स भरने वाला व्यक्ति अपनी सुविधा के अनुसार आईटीआर 1 से लकेर आईटीआर 4 तक फॉर्म का चयन करके या फिर नया कॉमन आईटीआर फॉर्म चुनकर अपना रिटर्न जमा कर सकता है।

ये भी पढे़ं-

Moonlighting: एक साथ दो कंपनियों में काम करने पर कितना लगता है टैक्स? जानिए क्या हैं इसके नियम 

DCX Systems IPO का इस दिन हो सकता है अलॉटमेंट, जानें क्या है GMP का हाल

 

Edited By: Abhinav Shalya

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट