नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। अदानी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड (AGEL) ने गुरुवार को कहा कि उसने राजस्थान के जैसलमेर जिले में 600 मेगावॉट की क्षमता वाले दुनिया के सबसे बड़े विंड- सोलर प्लांट को चालू कर दिया है।

कंपनी ने अपने बयान में कहा कि ये दुनिया का सबसे बड़ा विंड- सोलर पावर प्लांट है। इस प्लांट का सोलर एनर्जी कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (SECI) के साथ 25 साल के लिए 2.69 रुपये/किलोवाट पर बिजली खरीद समझौता है। इस प्रोजेक्ट में 600 मेगावाट सोलर और 150 मेगावाट विंड पावर प्लांट शमिल हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यह देश में न सिर्फ रिन्यूएबल एनर्जी की कमी को पूरा करेगा, बल्कि देश के ट्रांसमिशन नेटवर्क के उच्चतम उपयोग में भी मदद करेगा।

देश का पहला हाइब्रिड पावर प्लांट

अदानी ग्रीन एनर्जी देश में बड़े स्तर पर ग्रीन एनर्जी सेक्टर में कार्य कर रहा है। इससे पहले मई 2022 में जैसलमेर में ही कंपनी ने 390 मेगावाट के हाइब्रिड पावर प्लांट का परिचालन शुरू किया था।

दुनिया की सबसे बड़ी ग्रीन एनर्जी कंपनी

हाल ही में जैसलमेर में शुरू किए गए 600 मेगावाट के पावर प्लांट को मिलाकर अदानी ग्रीन की रिन्यूएबल एनर्जी क्षमता बढ़कर 6.7 गीगावाट हो गई है। इसमें एक गीगावाट की हाइब्रिड पावर का प्रोडक्शन भी शामिल है। यह विश्व में सबसे अधिक है।

45 गीगावाट तक जाने का लक्ष्य

अदानी ग्रीन तेजी ने रिन्यूएबल एनर्जी सेक्टर में अपने कदम तेजी से बढ़ा रहा है। कंपनी के पास मौजूदा समय में 20.4 गीगावाट का रिन्यूएबल एनर्जी का पोर्टफोलियो है। कंपनी का लक्ष्य इसे बढ़ाकर 2030 तक 45 गीगावाट तक करने का है।

ये भी पढ़ें-

Gautam Adani की कंपनी को यूपी में गंगा एक्सप्रेसवे के लिए मिला फंड, एसबीआई देगा 10,000 करोड़ रुपये

S&P Global Ratings: धीमी हो रही है वैश्विक अर्थव्यवस्था, लेकिन चमक रहा है भारत का सितारा

Edited By: Abhinav Shalya

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट