नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क।  अपने सपनों को पूरा करने के लिए पैसों की जरूरत हमेशा पड़ती हैं। बैंक कई बार आवेदनकर्ता को होम लोन और पर्सनल लोन होने के कारण अतिरिक्त कोई भी नया लोन देने से इनकार कर देता है। ऐसे में आप टॉप अप लोन के जरिए आसानी से अपनी जरूरतों को पूरा कर सकते हैं।

टॉप अप लोन एक ऐसा लोन होता है, जिसमें बैंक की ओर से आपके पहले से चल रहे लोन पर अतिरिक्त राशि दी जाती है। यह होम लोन, पर्सनल लोन और अन्य किसी लोन पर दिया जाता है। इसे एक तरह की एड ऑन सुविधा के तौर पर देखा जाता है जो बैंक केवल अपने मौजूदा ग्राहकों को देती है।

कब लेना चाहिए टॉप अप लोन?

  1. जब आप पर पहले से ही कोई पर्सनल लोन, होम लोन या फिर कोई अन्य लोन हो और आपको फंड की आवश्यकता हो।
  2. आपको अतिरिक्त लोन की जरूरत है और बैंक जाने एवं दस्तावेजों के झंझट से बचना चाहते हैं ।
  3. टॉप लोन उन्हीं लोगों को लेना चाहिए, जो कई लोन एक साथ नहीं चलाना चाहते हैं और केवल अपने लोन को कंसोलिडेट करने की कोशिश कर रहे हैं।

टॉप अप लोन के फायदे

  1. टॉप अप लोन लेने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि बैंक के मौजूद ग्राहक होने के कारण आपका लोन आवेदन जल्दी मंजूर हो जाता है और पैसा आपके खाते में आ जाता है।
  2. मौजूदा ग्राहक होने के कारण बैंक आपसे केवल बेहद जरूरी दस्तावेजों की मांग करता है।
  3. अगर आपकी क्रेडिट हिस्ट्री अच्छी और क्रेडिट स्कोर 750 से अधिक बना रहता है, इसके साथ ही आप समय से सभी ईएमआई का भुगतान कर रहे हैं, तो बैंक आपको मौजूदा ब्याज दर से भी कम दर पर लोन दे सकता है।
  4. इसमें सबसे बड़ा फायदा है कि टॉप अप लोन लेने के बाद भी आपके मौजूदा लोन की अवधि नहीं बढ़ती है।
  5. इसका एक अन्य बड़ा फायदा यह है कि टॉप अप लोन लेने पर आपको बैंक के पास कुछ भी अतिरिक्त गिरवी नहीं रखना पड़ता है।

ये भी पढ़ें- 

भारतीय रुपये ने दिखाया अधिक लचीलापन, हाल के वर्षों में हुआ सबसे कम मूल्यह्रास : पीयूष गोयल

IIP Data: देश के औद्योगिक उत्पादन में हुई बढ़ोतरी, जानिए क्या कहते हैं ताजा आंकड़े

Edited By: Abhinav Shalya