मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। जीवन में बहुत से ऐसे मौके आते हैं जब अचानक से बड़ी पूंजी की आवश्यकता पड़ जाती है या फिर वित्तीय संकट आ जाता है। यह स्थिति किसी भी व्यक्ति को परेशान कर सकती है। ऐसी परिस्थिति में व्यक्ति कर्ज लेने के लिए विवश हो जाता है। अब यहां महत्वपूर्ण यह है कि कर्ज ऐसा लेना चाहिए जिसे चुकाना आसान हो और आपको कर्ज चुकाने के लिए पर्याप्त समय भी मिले। आज हम आपको लोन के कुछ ऐसे ऑप्शन बता रहे हैं, जिनमें से किसी एक को चुनकर आप आसानी से अपनी फाइनेंसियल प्रॉब्लम से बाहर निकल सकते हैं।

यह भी पढ़ें: जानिए क्या हैं Gratuity के नियम और कैसे करते हैं इसका कैलकुलेशन

पेडे लोन

नौकरीपेशा वाले लोगों के लिए फाइनेंसियल प्रॉब्लम की स्थिति में यह पहला और सबसे अच्छा विकल्प होता है। इसमें व्यक्ति को तुरंत ही नकदी मिल जाती है। यह लोन कर्मचारी की आय और क्रेडिट प्रोफाइल के आधार पर दिया जाता है। इस लोन में सबसे अच्छी बात यह है कि इसकी समयावधि ज्यादा नहीं होती है। इस लोन के लिए अप्लाई करने का तरीका पर्सनल लोन जैसा ही होता है।

पर्सनल लोन

इस तरह के लोन को कोई भी व्यक्ति बैंक में जाकर ले सकता है बशर्ते आप उधारदाता के योग्यता मानदंडों को पूरा करते हों। यह लोन लेने के लिए आपके पास आय व आईडी प्रूफ, पैन कार्ड, सैलरी स्लिप, बैंक स्टेटमेंट्स और टैक्स स्टेटमेंट्स होना चाहिए। पर्सनल लोम पर सामान्यत: 11 से 25 फीसद तक वार्षिक ब्याज लगता है।

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान ने भारत से बंद किया व्यापार, तो अब वहां जीवनरक्षक दवाओं की कमी का खतरा, फिर बिजनेस शुरू करने के लिए बेचैन

गोल्ड पर लोन

इसमें आपको अपने सोने जैसे गहने, सिक्के, बिस्किट आदि को गिरवी रखना होता है और बदले में आपको तुरंत लोन मिल जाता है। इसमें गिरवी रखा गया सोना 18 कैरट या उससे अधिक का होना चाहिए। गोल्ड लोन की विशेषता यह है कि इसमें ब्याज दर पर्सनल लोन की अपेक्षा कम होती है और इस पर आपके क्रेडिट स्कोर का भी खास फर्क नहीं पड़ता।

यह भी पढ़ें: पेट्रोल और डीजल दोनों हुए सस्ते, जानिए कितने गिर गए हैं दाम

क्रेडिट कार्ड से नकदी निकालना

तुरंत नकदी पाने का यह सबसे खराब विकल्प माना जाता है। क्रेडिट कार्ड से नकदी निकालने से हमेशा बचना चाहिए, क्योंकि इससे आपके क्रेडिट स्कोर के खराब होने के चांसेज रहते हैं। सबसे बड़ी बात यह कि इसमें ब्याज दरें काफी ज्यादा होती है और ग्राहको को ब्याज फ्री वाली टाइम लिमिट भी नहीं मिलती। इसमें ब्याज के अलावा एक अतिरिक्त शुल्क भी लगता है जिसे कैश अडवांस फीस कहते हैं।

Posted By: Pawan Jayaswal

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप