Move to Jagran APP

E-Bike Service: मेट्रो सिटी की तर्ज पर इस जिले में शुरू होगी ई-बाइक सर्विस, परिवहन मुख्यालय ने दिया निर्देश

बिहार के सिवान जिले में जल्द ही ई-बाइक सर्विस शुरू की जाएगी। परिवहन मुख्यालय ने इसके लिए निर्देश दिया है। स्थानीय स्तर पर डीटीओ और एमवीआई को बाइक एजेंसी से संपर्क करने कहा गया है ताकि वे लोग ई-बाइक सर्विस के लिए ज्यादा से ज्यादा कमर्शियल रजिस्ट्रेशन करा सकें। साथ ही इसमें किसी तरह की परेशानी ना हो इसके लिए भी जरूरी तैयारी करने की बात कही गई है।

By Anshuman Kumar Edited By: Rajat Mourya Published: Mon, 20 May 2024 06:29 PM (IST)Updated: Mon, 20 May 2024 06:29 PM (IST)
मेट्रो सिटी की तर्ज पर इस जिले में शुरू होगी ई-बाइक सर्विस, परिवहन मुख्यालय ने दिया निर्देश

जागरण संवाददाता, सिवान। मेट्रो सिटी की तर्ज पर ही जिले में ई-बाइक सर्विस शुरू होगी। इसके लिए परिवहन मुख्यालय ने विशेष रूप से निर्देशित किया है। सर्विस को शुरू करने के लिए बाइक का भी कमर्शियल रजिस्ट्रेशन किया जाएगा।

इसके लिए स्थानीय स्तर पर डीटीओ और एमवीआई को बाइक एजेंसी से संपर्क करने कहा गया है, ताकि वे लोग ई-बाइक सर्विस के लिए ज्यादा से ज्यादा कमर्शियल रजिस्ट्रेशन करा सकें। साथ ही इसमें किसी तरह की परेशानी ना हो, इसके लिए भी जरूरी तैयारी करने की बात कही गई है।

ई-कैब सर्विस को मिलेगा बढ़ावा, दिया गया है निर्देश

परिवहन मुख्यालय द्वारा जिला परिवहन पदाधिकारी व एमवीआई को ई-कैब सर्विस को बढ़ावा देने को कहा गया है। कहा गया है कि यदि कोई कैब सर्विस शुरू करता है तो उसे रजिस्ट्रेशन कराने के लिए जरूरी सुझाव दें। उनका रजिस्ट्रेशन सहूलियत से हो, इसका विशेष ध्यान रखने को निर्देशित किया गया है।

इस संबंध में जिला परिवहन पदाधिकारी कुमार विवेकानंद ने कहा कि सर्विस को शुरू करने के लिए कोई भी व्यक्ति जरूरी दस्तावेज के साथ आवेदन कर सकता है। जो भी निजी वाहन कमर्शियल प्रयोग में लाए जा रहे हैं, उन्हें भी अनिवार्य रूप से कमर्शियल पंजीकरण कराना है।

इसके अलावा यदि निजी वाहनों को बिना कमर्शियल पंजीयन कराए व्यवसायिक उपयोग में लाया जा रहा है, तो उनपर कार्रवाई की जाएगी।

ये भी पढ़ें- Bihar Smart Bijli Meter: ऐसी गलती भूलकर भी ना करें, तुरंत कट जाएगी घर की बिजली; फिर...

ये भी पढ़ें- Bihar Wheat Price: खुले बाजार में गेहूं का मूल्य 2400 रुपये प्रति क्विंटल, सरकारी खरीद से मुंह मोड़ रहे किसान


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.