Move to Jagran APP

सारण मदरसा बम ब्लास्ट में NCPCR का बड़ा खुलासा! बढ़ सकती है मौलाना की मुश्किलें, पुलिस को दिया ये निर्देश

सारण मदरसा बम ब्लास्ट केस की जांच जारी है। इस बीच एनसीपीसीआर की टीम मोतीराजपुर बम ब्लास्ट केस की जांच के लिए पहुंची। इस दौरान छात्रों से घटना की पूरी जानकारी ली। एनसीपीसीआर अध्यक्ष ने कहा कि यह अवैध मदरसा है इसका सरकार के पास रिकॉर्ड नहीं है। वहीं पटना के निजी अस्पताल में भर्ती छात्र के स्वजन से अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो ने मुलाकात की।

By bhupendra singh Edited By: Shashank Shekhar Sat, 18 May 2024 12:39 PM (IST)
सारण मदरसा बम ब्लास्ट में NCPCR का बड़ा खुलासा! बढ़ सकती है मौलाना की मुश्किलें (फाइल फोटो)

संवाद सूत्र, गड़खा (सारण)। सारण के मोतीराजपुर गांव में बुधवार शाम मदरसा बम विस्फोट में मौलाना इमामुद्दीन की मौत और एक छात्र के गंभीर रूप से जख्मी होने की सूचना पर एनसीपीसीआर (राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग) की टीम शुक्रवार दोपहर अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो के नेतृत्व में यहां पहुंची।

टीम के साथ गड़खा थानाध्यक्ष शशि रंजन भी थे। टीम के सदस्यों ने वहां मौजूद एक वृद्ध व मदरसा के दो छात्रों से पूछताछ की।

छात्रों ने घटना को लेकर क्या कुछ बताया

छात्रों ने बताया कि धमाके के वक्त वे लोग समीप की मस्जिद में शाम की नमाज पढ़ कर लौट रहे थे। उन लोगों ने तेज धमाके के साथ धुएं का गुब्बार उपर उठते दिखा। मदरसा में मौलाना इमामुद्दीन के साथ उनकी पत्नी व एक अन्य मौलवी तथा छात्र था।

छात्रों ने आगे बताया कि जब वे वहां पहुंचे तो देखा कि मौलाना एक ओर घायल पड़े थे, छात्र समीप के छोटे आम के पेड़ पर दो डालियों के बीच झूल रहा था। मौलाना की पत्नी ने उन्हें उठाकर चारपाई पर रखा। जब गांव के लोग पहुंचे तो उपचार के लिए दोनों को पटना ले गए। घटना के बाद सभी छात्रों को आसपास के लोगों ने इधर-उधर पहुंचा दिया था।

दो छात्रों को ग्रामीणों ने खोदाईबाग के समीप खाजासराय मस्जिद में पहुंचा दिया था, जहां से वे शुक्रवार की सुबह ही मदरसा लौटे थे। अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो वहां से लौट कर पटना आए और निजी अस्पताल में भर्ती छात्र के स्वजन से मिले। उन्होंने प्रदेश के मुख्य सचिव व डीजीपी को छात्र के समुचित उपचार, पुनर्वास व मुआवजे का निर्देश दिया।

कानूनगो ने एक्स पर दी ये जानकारी

बाद में कानूनगो ने एक्स पर जानकारी दी कि घटनास्थल से पुलिस को क्रूड बम बनाने में प्रयोग किए जाने वाले बंदूक की गोली के छर्रे एवं नुकीली सुईयां मिलीं थीं। पुलिस को जब्ती सूची में इसका उल्लेख करने का निर्देश दिया है।

वहीं, उन्होंने प्राथमिकी में घायल हुए नाबालिग छात्र का नाम जोड़ने को अतिशयोक्तिपूर्ण बताया है। अगर मौलवी बच्चों से बम बनवाए तो विधि अनुसार मदरसा संचालकों पर कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने पुलिस को निर्देशित किया है कि मदरसा में बनाए जा रहे बमों का इस्तेमाल चुनाव में किए जाने की संभावना की भी जांच करें।

कहा कि यह मदरसा अवैध है, सरकार के पास इसका कोई रिकॉर्ड उपलब्ध नहीं है। घटना के बाद से मदरसे का सदर एवं दो मौलाना फरार हैं। वहीं, मदरसे के 14 छात्र भी गायब कर दिए गए हैं।

ये भी पढ़ें-

Saran News : गड़खा के मोतिराजपुर गांव में मदरसा में बम विस्फोट, छात्र और मौलाना घायल; दोनों को ढूंढने में जुटी पुलिस

Madarsa Bomb Blast : मदरसा बम विस्फोट में मौलाना की मौत; ICU में जिंदगी की जंग लड़ रहा छात्र, NCPCR ने लिया संज्ञान