नयागांव। गंडक नदी के जलस्तर में कई दिनों से लगातार हो रही बढ़ोतरी के कारण सोनपुर प्रखंड अंतर्गत नयागांव पंचायत के बहेरवा गाछी गांव बाढ़ के पानी से चारों ओर से घिरा हुआ है । महदलीचक नहर का स्लूइस गेट खुला रहने के बावजूद भी गंडक नदी के पानी से पूरा हरदिया चौवर जल मग्न हो गया है । नवनिर्मित फोरलेन में बनी पुलिया से पानी गिरने कारण रसूलपुर पंचायत तथा नयागांव पंचायत के बहेरवा गाछी गांव के दर्जनों घरों में बाढ़ का पानी घुस गया है । जिसके चलते कई लोग अपने मवेशियों के साथ नयागांव रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर दो पर शरण लिए हुए हैं । घर में बाढ़ का पानी जिनके घरों में घुसा है उनमें मुख्यरूप से हरेंद्र भगत, लालती देवी, भरत सिंह, शिवबदन महतो, बली महतो, रामधनी महतो, झड़ी महतो, बासदेव राय, सुरेंद्र नट, उमेश नट, महेश नट, बादशाह राय, शिवलाल महतो, अमृत महतो, मोहम्मद कलाम, प्रह्रलाद महतो,चंदेश्वर ठाकुर, मो हबीब, शिवकुमार, बालदेव राय, हरेश्वर राय,रामदेव राय,रामलाल महतो,अनिल नट,लक्ष्मण महतो आदि शामिल है। नयागांव पंचायत के बीडीसी रमेश कुमार ने बाढ़ से प्रभावित बहेरवा गाछी गांव के पीड़ित परिवारों के बीच चूड़ा मीठा का वितरण किया।

इनसेट

छपिया में बाढ़ पीड़ितों ने स्टेट हाईवे को किया जाम

संसू, तरैया (सारण) : थाना क्षेत्र के डुमरी छपिया बिदटोली के पास स्टेट हाइवे तरैया-मशरक को नाराज बाढ़ पीड़ितों ने जाम कर दिया। प्रदर्शनकारियों ने बताया कि घरों में अभी कमर भर पानी भरा हुआ है। लगभग 21 दिनों से घर पानी में डूबा हुआ है। इस त्रासदी में सभी बाढ़ पीड़ित कम्युनिटी किचन और जेनरेटर से मिल रही बिजली के सहारे चल रहे थे। इसी बीच अचानक सभी सुविधाएं बंद कर दी गई। इससे नाराज बाढ़ पीड़ितों ने मुख्य सड़क को जाम कर दिया। सूचना मिलते ही तरैया पुलिस मौके पर पहुंची और आक्रोशित बाढ़ पीड़ितों को समझाने का प्रयास करती रही लेकिन बाढ़ पीड़ित किसी की बात सुनने को तैयार नहीं थे। सिर्फ विधायक व इसुआपुर सीओ को बुलाने की मांग कर रहे थे। तब स्थानीय पुलिस ने मढ़ौरा एसडीओ को सूचना दिया। तब जाकर इसुआपुर सीओ ने मौके पर पहुंचकर बाढ़पीड़ितों को समझा-बुझाकर तरैया पुलिस की सहायता से जाम को हटवाया और यातायात बहाल करवाया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप