पूर्णिया। चांदपुर भंगहा के अशोकनगर जैसे सुदूरव‌र्त्ती ग्रामीण परिवेश में मां काली ऐजुकेशनल ट्रस्ट द्वारा संचालित आराध्या नेशनल कान्वेंट स्कूल शहर के बच्चों को भी अपनी ओर आकर्षित कर रहा है। 2013 में स्थापित इस विद्यालय के उत्कृष्ट प्रदर्शन को देखते हुए बिहार सरकार ने इसे 2014 में प्रस्वीकृति प्रदान की। ¨सगापुर के एक बहुप्रतिष्ठित कंपनी में कार्यरत रहे नवनीत झा जब अपने घर लौटे तो क्षेत्र में शिक्षा से वंचित बच्चों की दशा देख उन्होंने चांदपुर भंगहा में शिक्षा सुविधाओं से वंचित बच्चों को मुख्यधारा में शामिल करने के उद्देश्य से विद्यालय की स्थापना की। उनके कुशल दिशा-निर्देशन में अभी विद्यालय संचालित हो रहा है। मौके पर मौजूद सामाजिक कार्यकर्ता ओमप्रकाश झा, दयानंद यादव व स्थानीय ग्रामीणों ने जानकारी दी कि इस विद्यालय में छात्रावास व गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के कारण ही बनमनखी, छातापुर, कुमारखंड, प्रतापगंज, जानकीनगर एवं मुरलीगंज सहित कई अन्य स्थानों के छात्र यहां आकर अध्ययन कर रहे हैं। विद्यालय के प्रधानाचार्य नवनीत झा व अन्य शिक्षकों ने बताया कि नर्सरी से लेकर आठवीं तक के इस विद्यालय में सीसी कैमरा व कंप्यूटर लैब की व्यवस्था है। ग्रामीणों का कहना है कि एक ओर निजी स्कूलों में अभिभावकों का आर्थिक दोहन हो रहा है वहीं यह विद्यालय अच्छा माहौल बनाने में कामयाब हुआ है।

Posted By: Jagran