पटना, ऑनलाइन डेस्क। Lalu Prasad Yadav Bail News:  चारा घोटाले (Fodder Scam) के मामले में करीब साढ़े तीन साल से सजा काट रहे राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) को आखिरकार जमानत मिल गई है। उनकी जमानत मंजूर किए जाने के बाद राबड़ी देवी (Rabari Devi) के आवास पर खुशियों का माहौल है। उनके बेटे तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav), तेजस्‍वी यादव (Tejaswi Yadav), बेटियां मीसा भारती (Misa Bharati), राजलक्ष्‍मी यादव (Rajlaxmi Yadav) और रोहिणी आचार्य (Rohini Acharya) अपने पिता की जमानत मंजूर होने से खुश हैं। राजद समर्थक इस खबर से खूब उत्‍साहित हैं। अब लालू यादव को रांची (Ranchi) की होटवार जेल (Hotwar Jail) में नहीं लौटना होगा। वे फिलहाल दिल्‍ली एम्‍स (New Delhi AIMS) में अपना इलाज करा रहे हैं। देखना होगा कि लालू अभी एम्‍स में ही रहते हैं या फिर किसी दूसरे अस्‍पताल में शिफ्ट होना पसंद करते हैं।

शुक्रवार को टल गया था मामला

दुमका कोषागार से जुड़े घोटाले के मामले में सजा काट रहे लालू की जमानत पर आज रांची हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। उनका पूरा परिवार (Lalu Family) याचिका मंजूर होने के लिए ईश्‍वर से प्रार्थना कर रहा था। उनकी जमानत याचिका पर शुक्रवार को ही सुनवाई होनी थी, लेकिन कोर्ट बंद होने के कारण मामला एक दिन के लिए टल गया। लालू करीब साढ़े तीन साल से लगातार जेल में हैं। दो महीने पहले उनकी जमानत याचिका खारिज हो गई थी।

बेटे-बेटियों ने लगातार ईश्‍वर से की प्रार्थना

लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप ने नवरात्र में देवी की आराधना कर अपने पिता के लिए रिहाई के लिए प्रार्थना की तो दूसरी तरफ तेजस्वी यादव ने झारखंड के देवघर स्थित बाबा बैद्यनाथ धाम और बाबा बासुकीनाथ धाम में हाजिरी लगाई। उनकी बहन रोहिणी आचार्य अपने पिता की रिहाई के लिए रोजा रख रही हैं। इसको लेकर बिहार में सियासत भी खूब हुई है। 

उम्र और सेहत के आधार पर मांगी है जमानत

लालू प्रसाद यादव की तरफ से कोर्ट बताया गया है कि उनकी आधी सजा पूरी हो गई है और वे इस मामले को लेकर अपील में भी गए हैं। लिहाजा उनकी उम्र और सेहत को देखते हुए जमानत दे दी जाए। दूसरी तरफ सीबीआइ का कहना है कि लालू प्रसाद की आधी सजा अभी पूरी नहीं हुई है। उन्हें 7-7 साल की दो सजाएं हुई हैं और दोनों सजाएं अलग-अलग चलनी हैं। इस लिहाज से उन्हें लगातार 14 साल जेल में रहना है और उनकी आधी सजा सात साल जेल में रहने के बाद ही पूरी होगी। सीबीआइने इस आधार पर लालू की याचिका पर सवाल उठाए हैं और उन्हें जमानत देने का विरोध किया था।

यह भी पढ़ें- Bihar Politics: सबसे पहले आपातकाल में जेल गए थे लालू, यहीं से हुई थी सक्रिय राजनीति की शुरुआत

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप