Move to Jagran APP

मजिस्‍द में सोए मौलवी की गला रेतकर हत्‍या, सिवान जिले की घटना, इनलोगों पर घूम रही शक की सूई

सिवान जिले के मुफस्सिल थाना क्षेत्र में गुरुवार रात मस्जिद की छत पर सोए मौलवी की बेरहमी से हत्‍या कर दी गई। हत्‍यारे ने उनका गला रेत दिया था। पुलिस का कहना है कि गांव के कुछ लोगों से ही विवाद चल रहा था।

By Vyas ChandraEdited By: Published: Fri, 10 Jun 2022 10:14 AM (IST)Updated: Fri, 10 Jun 2022 04:19 PM (IST)
सिवान में गला रेतकर मौलवी की हत्‍या। सांकेतिक तस्‍वीर

सिवान, जागरण संवाददाता।  मुफस्सिल थाना क्षेत्र के खालिसपुर स्थित एक मस्जिद में बीती रात बदमाशों ने एक मौलवी की गर्दन काट कर हत्या कर दी। घटना की जानकारी शुक्रवार की सुबह लोगों को उस समय हुई जब मस्जिद में सफाई करने के लिए कर्मी पहुंचा। मौलवी का शव देख उसने शोर मचाया तब आसपास लोग एकत्रित हुए और घटना की जानकारी पुलिस को दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। मृतक की पहचान स्थानीय निवासी सफी अहमद के रूप में हुई। 

loksabha election banner

मस्जिद में ही सोते थे मौलवी

जानकारी के अनुसार रात्रि में गर्मी होने के कारण नमाज पढ़ने के बाद मौलवी मस्जिद की छत पर सोने चले गए थे,  समझा जाता है कि देर रात गर्दन काटकर उनकी हत्‍या कर दी गई। वहीं थानाध्यक्ष विनोद कुमार सिंह ने बताया कि जांच में यह पता चला है कि सफी अहमद का गांव में ही कुछ लोगों के साथ पारिवारिक विवाद चल रहा था। आवेदन मिलने के बाद स्थिति स्पष्ट हो पाएगी।

पटीदारों से चल रहा था विवाद 

बताया गया है कि मौलवी सफी अहमद का प‍टीदारों से विवाद चल रहा था। इस कारण उनके हिस्‍से एक ही कमरा था। वे अपने भाइयों के साथ संयुक्‍त घर में रहते थे। कुछ दिन पहले उन्‍हें दो दिन के लिए कमरा खाली करने को कहा गया। लेकिन दो दिन बाद जब उन्‍होंने कमरे में जाना चाहा तो उसमें ताला बंद था। कहा गया कि यह नहीं खुलेगा। इसका विरोध करने पर उनके बेटे को जान से मारने की धमकी दी गई। मामला पंचायत में भी गया। लेकिन पंचायत की बात भी उनलोगों ने नहीं मानी। इसकी एफआइआर उन्‍होंने दर्ज कराई थी। इधर एक ही कमरा होने के कारण बेटा और परिवार उसमें रहता था। मौलवी मस्जिद में ही सोते थे। अलसुबह चाकू से वार कर उनकी हत्‍या कर दी गई।  


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.