जागरण संवाददाता, पटना :

एम्स पटना (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान)में मार्च से इमरजेंसी की सुविधा उपलब्ध होगी। संस्थान में कई गंभीर बीमारियों के इलाज की व्यवस्था भी की जा रही है।

कुछ मशीनें लगीं, कई की तैयारी

एम्स में इमरजेंसी सुविधा के लिए काफी दिनों से प्रयास चल रहे हैं। सीटी स्कैन मशीन का ट्रायल होने के बाद इसे गति दिया जाना है। इमरजेंसी सुविधा के लिए डिजिटल रेडियोग्राफी, मेमोग्राफी, एमआरआइ मशीन लगाने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। इनमें कुछ सुविधाएं जनवरी और कुछ फरवरी से मिलने लगेंगी। बाइपास सर्जरी के लिए अभी और इंतजार करना पड़ेगा। इसके लिए करीब तीन करोड़ की मशीन की खरीदारी होनी है। विधिवत इलाज शुरू होने के पहले चरण में संस्थान में 300 मरीजों को भर्ती करने की सुविधा होगी।

शिशु, प्रसूति विभाग व ओटी तैयार

एम्स में इमरजेंसी सुविधाओं के लिए शिशु विभाग, प्रसूति विभाग और सर्जरी विभाग की तैयारी हो चुकी है। तीनों के लिए सघन चिकित्सा कक्ष (आइसीयू) भी तैयार है। ऑपरेशन के लिए आठ ओटी व ब्लड बैंक की तैयारी अंतिम चरण में है।

-----------

कोट---

इमरजेंसी सुविधा शीघ्र आरंभ करने की कवायद चल रही है। कई आवश्यक सुविधाओं को चालू कर दिया गया है। कुछ अंतिम चरण में हैं। मार्च से लोगों को इमरजेंसी सुविधा के तहत ब्रेन हैमरेज, फ्रैक्चर, हार्ट अटैक और दुर्घटनाओं पर इलाज का लाभ मिलने लगेगा। केवल बाईपास सर्जरी के लिए इंतजार करना पड़ेगा।

- डॉ. जीके सिंह, निदेशक, एम्स पटना।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप