Move to Jagran APP

Bihar News: नदियों के जलस्तर में उतार-चढ़ाव जारी, किशनगंज में बढ़ेगा महानंदा का लेवल; प‍ढ़‍िए ताजा अपडेट

Bihar Hindi News बिहार में कुछ जगहों को छोड़ दें तो ज्‍यादातर जगहों पर नदियों का जलस्तर गिरा है। वर्तमान में गंड़क बागमती कोसी और महानंदा के जलस्तर में लगातार उतार-चढ़ाव का क्रम चल रहा है। किशनगंज जिला के तैयबपुर में महानंदा का जलस्तर खतरे के निशान से 85 सेमी नीचे था। बुधवार को इसमें 105 सेमी की वृद्धि का आकलन है।

By Raman Shukla Edited By: Prateek Jain Tue, 09 Jul 2024 10:04 PM (IST)
बिहार में नदियों के जलस्‍तर में उतार-चढ़ाव का क्रम जारी है।

राज्य ब्यूरो, पटना। बिहार में कुछ स्थानों को छोड़कर अधिसंख्य जगहों पर नदियों के जलस्तर में गिरावट हुई है। अभी गंड़क, बागमती, कोसी और महानंदा के जलस्तर में उतार-चढ़ाव का क्रम जारी है।

खगड़िया जिला के बलतारा में कोसी का जलस्तर मंगलवार को लाल निशान से 81 सेंटीमीटर ऊपर रहा। इसमें अभी कमी की संभावना नहीं। किशनगंज जिला के तैयबपुर में महानंदा का जलस्तर खतरे के निशान से 85 सेमी नीचे था। बुधवार को इसमें 105 सेमी की वृद्धि का आकलन है।

पूर्णिया-कटिहार में जलस्‍तर गिरने का अनुमान

बुधवार को पूर्णिया जिला के ढ़ेंगराघाट और कटिहार के झावा में महानंदा के जलस्तर में कमी का पूर्वाकलन है।केंद्रीय जल आयोग की रिपोर्ट के अनुसार, मुजफ्फरपुर जिला के रेवाघाट में गंडक का जलस्तर मंगलवार की सुबह खतरे के निशान से 16 सेंटीमीटर नीचे थे।

उसमें बुधवार को 27 सेंटीमीटर वृद्धि की संभावना है। गोपालगंज जिला के डुमरियाघाट में गंडक का जलस्तर खतरे के निशान से 116 सेंटीमीटर ऊपर था, जो बुधवार तक 18 सेंटीमीटर कम हो सकता है।

अररिया में परमान नदी का जलस्‍तर बढ़ सकता है

अररिया में परमान नदी का जलस्तर खतरे के निशान से 43 सेमी ऊपर था, जिसमें बुधवार तक 22 सेमी की वृद्धि हो सकती है। घाघरा नदी का जलस्तर सिवान के दरौली में खतरे के निशान से 102 सेंटीमीटर नीचे था। उसमें बुधवार को 50 सेंटीमीटर वृद्धि हो सकती है।

मुजफ्फरपुर जिला के बेनीबाद में बागमती का जलस्तर खतरे के निशान से 81 सेंटीमीटर ऊपर था, जिसमें बुधवार को 49 सेंटीमीटर की कमी होने की संभावना है।

यह भी पढ़ें - 

Bihar Flood: बाढ़ की चपेट में बिहार के 15 जिले, आफत में लोगों की जान; आपदा से निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग अलर्ट

Bihar Politics: नीतीश कुमार के बाद कौन? पूर्व IAS मनीष वर्मा की एंट्री से JDU में बढ़ी हलचल, ये है आगे की रणनीति