पटना, जेएनएन। Bihar Board 10th Toppers 2020: बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की मैट्रिक परीक्षा में इस बार गांव के बच्चों की धमक रही। परीक्षा में कुल 80.59 परसेंट स्‍टूडेंट्स सफल रहे। रोहतास के हिमांशु राज ने कुल 500 अंकों की परीक्षा में 481 अंक प्राप्त कर प्रथम स्थान हासिल किया है। समस्तीपुर के दुर्गेश कुमार 480 अंक के साथ दूसरे स्थान पर रहे। भोजपुर के शुभम कुमार, औरंगाबाद के राजवीर और अरवल की जूली कुमारी को संयुक्त रूप से तीसरा स्थान मिला। तीनों को 478 अंक मिले हैं। मैट्रिक के टॉप टेन में कुल 41 परीक्षार्थियों ने स्थान बनाया है। हालांकि, राजधानी पटना समेत राज्य के बड़े शहरों में शुमार मुजफ्फरपुर और भागलपुर का एक भी छात्र टॉपर्स लिस्ट में जगह नहीं बना सका। टॉप टेन में शामिल 41 बच्‍चों को आप भी जानें... 

जानें मैट्रिक के प्रमुख टॉपरों ने क्‍या कहा

प्रशासनिक अधिकारी बनना चाहता है शुभम 

बिहार में तीसरा स्थान और जिले का टॉपर शुभम कुमार प्रशासनिक अधिकारी बनना चाहता है। मोटर पार्ट्स विक्रेता कृष्ण कुमार और माता पार्वती देवी का इकलौता पुत्र शुभम पढ़ाई में शुरू से तेज रहा है। श्री हरखेन कुमार ज्ञान स्थली, आरा का छात्र रहा शुभम अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता के अलावा अपने शिक्षक को देता है। शुभम का कहना है कि वह प्रशासनिक अधिकारी बनकर देश के प्रति अपनी जिम्मेवारी निभाना चाहता है। शुभम के अनुसार  सफलता हासिल करने के लिए लक्ष्य का निर्धारण कर लेने से आसानी होती है।

अनुराग एनडीए अफसर बनकर देश की करना चाहता है सेवा 

उदवंतनगर के गुदड़ी के लाल अनुराग की चर्चा चारों ओर होने लगी। यहां के अनुराग राज ने बिहार में नौवां व भोजपुर में दूसरा स्थान प्राप्त कर जिले का नाम का रोशन किया। अनुराग राज एनडीए ऑफिसर बनकर देश की सेवा करना चाहता है। अनुराग के पिता राजकुमार सिंह की माली हालत बहुत अच्छी नहीं है। पिता मुंबई में रहकर प्राइवेट कंपनी में दिहाड़ी मजदूर का काम करके परिवार का खर्च चलाते हैं। मां सुचित्रा सिंह गृहिणी हैं। अनुराग अपनी सफलता का श्रेय वह अपनी मां और गुरुजनों के साथ मंझिले भाई अभिजीत राज को दिया। उसने रामजी +2 उच्च विद्यालय से मैट्रिक परीक्षा पास किया है। 

जहानाबाद के रोशन की नजर यूपीएससी क्रैक करने पर

मैट्रिक की परीक्षा में आठवां स्थान प्राप्त करने वाले मखदुमपुर निवासी रौशन कुमार का सपना यूपीएससी क्रैक करना है। सोनू लाल प्रसाद सिन्हा का पुत्र रोशन इंटर हाई स्कूल, मखदुमपुर का छात्र है। मैट्रिक परीक्षा में जो मुकाम हासिल किया इसका श्रेय माता-पिता को दिया है। पिता किसान और मां पार्वती देवी गृहिणी हैं। तीन भाईयों में सबसे छोटे रोशन की इस सफलता से उसके घर में उत्साह का वातावरण है। 

अब इंजीनियर बनने का है लक्ष्य : श्लोक

मैट्रिक परीक्षा में वीएम हाई स्कूल, सिवान के छात्र श्लोक तुलस्यान को दसवीं रैंक मिली है। श्लोक को 471 अंक मिले हैं। श्लोक इस समय दिल्ली में अपने मामा के घर पर है। लॉकडाउन के बाद से फंसा हुआ है। उससे मोबाइल पर संपर्क किया गया तो उस समय उसे अपने रिजल्ट की जानकारी नहीं थी। सबसे पहले जानकारी देने के लिए जागरण को धन्यवाद दिया। श्लोक ने बताया कि अब आगे का लक्ष्य इंजीनियर बनना है। उसने अपनी सफलता का श्रेय माता-पिता व हाई स्कूल के प्राचार्य सैयद अलाउद्दीन व शिक्षकों को दिया। पिता श्यामसुंदर अग्रवाल सिवान शहर में ही परफ्यूम व टॉफी का व्यवसाय करते हैं। ये मूलत: गोपालगंज जिले के रहने वाले हैं। उसकी माता सीमा तुलस्यान ने बताया कि श्लोक भाई में अकेला है। 

मां आंगनबाड़ी सेविका बेटा बनना चाहता डॉक्टर

मैट्रिक की परीक्षा में नौंवा स्थान प्राप्त करने वाले हेमंत राज का लक्ष्य डॉक्टर बनकर समाज की सेवा करना है। हुलासगंज प्रखंड के सूरजपुर निवासी हेमंत राज के पिता अरुण कुमार पास के ही धरमपुर प्राथमिक विद्यालय में शिक्षक हैं, जबकि मां बबली कुमारी आंगनबाड़ी सेविका हैं। उसकी दोनों बड़ी बहनें कॉलेज में पढ़ाई कर रही हैं। वह अपने माता-पिता का इकलौता बेटा है। हेमंत का कहना है कि वह प्रतिदिन 13 से 14 घंटे तक पढ़ाई करता था। समीप के इंटर हाई स्कूल हुलासगंज में ही आठवीं कक्षा से पढ़ाई की। उसने अपने इस सफलता का श्रेय माता-पिता को दिया है। 

जूली बनना चाहती है इंजीनियर

मैट्रिक परीक्षा में अरवल जिले की जूली कुमारी 478 अंक लाकर सूबे में तीसरा और लड़कियों में पहला स्थान हासिल किया है। जूली इंजीनियर बनना चाहती है। अरवल प्रखंड के बैदराबाद निवासी नियोजित शिक्षक मनोज कुमार सिन्हा की बेटी जूली ने इस सफलता का श्रेय अपने माता-पिता को दिया है। उसकी मां लालती देवी गृहिणी हैं। पिता करपी प्रखंड के खड़ासिन मध्य विद्यालय में शिक्षक हैं। बालिका उच्च विद्यालय, अरवल से मैट्रिक की परीक्षा में इतनी बड़ी सफलता हासिल करने वाली जूली कहती है कि वह प्रतिदिन 15 घंटे पढ़ाई करती थी। आगे विज्ञान की पढ़ाई में रूचि है। घर में लॉकडाउन के बाद भी जश्न का माहौल है।  

सेविका का बेटा बनना चाहता है आइआइटियन

संसाधनों की घोर किल्लत के बीच वीरपुर के जगदर निवासी शशि कुमार ने अपनी मेहनत से सूबे में अपनी प्रतिभा का डंका बजा दिया है। उसकी मां आंगनबाड़ी सेविका हैं। पिता अमरजीत महतो की मृत्यु 2010 में एक सड़क दुर्घटना में हो गई थी। जगदर के आंगनबाड़ी केंद्र सेविका शर्मिला कुमारी बताती हैं कि शशि उनका छोटा पुत्र है। वहीं, शशि कुमार ने पूछने पर बताया कि वह आइआइटियन बनना चाहता है। वह हरिजन हाईस्कूल जगदर के विद्यार्थी हैं। 

आइएएस बनना चाहता है छौड़ाही का नवनीत आनंद 

छौड़ाही प्रखंड के उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय पनसल्ला के छात्र नवनीत कुमार के पिता नरेंद्र कुमार शर्मा मध्य विद्यालय पनसल्ला में नियोजित शिक्षक हैं। सरिता देवी के पुत्र नवनीत आनंद ने बताया कि वह प्रतिदिन अपने विद्यालय के शिक्षकों के मार्गदर्शन में अध्ययन करता था। सभी ने पढ़ाई में काफी मदद की। स्वजन स्वतंत्र तरीके से पढ़ाई करने को प्रेरित करते थे। जिस कारण दबाव नहीं रहा और मन लगा कर पढ़ाई की। नवनीत ने बताया कि हमारा लक्ष्य आइएएस बनना है। 

मैट्रिक टॉपरों की सूची

रैंक  : नाम : स्कूल : अंक 

1 हिमांशु राज : जनता हाई स्कूल, तेनुज, रोहतास 481

2 दुर्गेश कुमार एसके हाई स्कूल, जितवारपुर, समस्तीपुर 480

3 शुभम कुमार श्री हरखेन कुमार जैन ज्ञान स्थली, आरा, भोजपुर 478

3 राजवीर पटेल हाई स्कूल, दाउदनगर, औरंगाबाद 478

3 जूली कुमारी बालिका हाई स्कूल, अरवल 478

4 सानू कुमार हाईस्कूल, अमरपुर, लखीसराय 477

4 मुन्ना कुमार अशोक हाईस्कूल, दाउदनगर, औरंगाबाद 477

4 नवनीत कुमार पटेल हाईस्कूल, दाउदनगर, औरंगाबाद 477

5 रंजीत कुमार गुप्ता एनएसएस हाईस्कूल निशान, नगरबड्डी, रोहतास   476

6 अंकित राज हाईस्कूल, अररिया 475

6 स्तुति मिश्रा हाईस्कूल, चैनपुर परारी, सहरसा 475

6 अंशुमान कुमार जागेश्वर हाई स्कूल, भूताही, सीतामढ़ी 475

6 ज्योति कुमारी रोकरिट गल्र्स हाई स्कूल, समस्तीपुर 475

6 दीपांशु प्रिया किसान हाई स्कूल, मोरसंड, समस्तीपुर 475

6 आफरीन तलत  गंगोत्री प्रोजेक्ट गल्र्स हाई स्कूल, चेनारी, रोहतास 475

6 अंकित कुमार पटेल हाईस्कूल, दाउदनगर, औरंगाबाद 475

7 राज रंजन     सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई 474

7 शशि कुमार एसपीएच हाईस्कूल, जगदार, बेगूसराय             474

7 विकास कुमार सोनेलाल महतो हाईस्कूल, जोरला, मधुबनी 474

8 शुभम राज लिलजू हाईस्कूल, बुरहिया, पूॢणया 473

8 बमबम कुमार सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई     473

8 आदित्य राज अवध बिहार पंडित हाईस्कूल, जिलेबिया मोड़, बांका 473

8 राकेश कुमार गुप्ता एनएसएस हाईस्कूल, नगरबड्डी, रोहतास 473

8 अर्चना कुमारी आरआर हाईस्कूल, गोरारी, रोहतास 473

8 रोशन कुमार हाईस्कूल, मखदुमपर, जहानाबाद 473

9 नवनीत आनंद उत्क्रमित एमएस पनसाला, बेगूसराय 472

9 शुभम कुमार एसएच हाईस्कूल, ठीकहन भवानीपुर, पूर्वी चंपारण 472

9 साक्षी कुमारी   आर हाईस्कूल सोहमा, समस्तीपुर 472

9 अनुराग राज    आरजे हाईस्कूल, उदवंतनगर, भोजपुर 472

9 सत्यम कुमार पटेल हाईस्कूल, दाउदनगर, औरंगाबाद 472

9 हेमंत राज     हाईस्कूल, हुलासगंज, जहानाबाद 472

10 पायल कुमारी प्रोजेक्ट गल्र्स हाईस्कूल, नरपतगंज, अररिया 471

10 रोहित कुमार सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई     471

10 आदित्य कुमार जिला स्कूल, सहरसा           471

10 शुभम प्रकाश हाईस्कूल, लगमा, समस्तीपुर 471

10 संतोष कुमार एनएसएस हाईस्कूल, नगरबड्डी, रोहतास 471

10 शाहजाद आलम हाईस्कूल, कोचस, रोहतास 471

10  प्रिया कुमारी  हाईस्कूल रसुलपुर, रोहतास 471

10 प्रदीप कुमार हाईस्कूल सिसवार, कैमूर 471

10 मधुमाला कुमारी  किसान हाईस्कूल, शिव नगर नंदी देवचंद डीह, गया 471

10 श्लोक तुलस्यान वीएम हाईस्कूल, सिवान 471 

इसे भी पढ़ें: मैट्रिक परीक्षा की टॉप टेन छात्राएं, बता रही हैं मन की बात

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस