पटना [जेएनएन]। भोजपुरी फिल्मों के सुपर स्‍टार खेसारी लाल यादव हाल ही में फिल्‍म 'आतंकवादी' में आतंकवादी का किरदार निभाकर चर्चा में आए थे। करीब पांच साल पहले भोजपुरी फिल्‍म 'साजन चले ससुराल' से अपना करियर शुरू करने वाले खेसारी वे अब तक 50 से अधिक भोजपुरी फिल्मों में काम करे चुके हैं। भोजपुरी सिनेमा में उनके योगदान को देखते हुए 'दादा साहेब फाल्के अकादमी अवार्ड' से सम्मानित किया गया।
जी हां, आप सही पढ़ रहे हैं। खेसारी लाल यादव को बीते एक जून को मुंबई में यह अवार्ड मिला। उन्हें यह अवार्ड अभिनेता विवेक ओबेराय ने दिया। उनके साथ यह अवार्ड शिल्पा शेट्टी, कपिल शर्मा, प्रियंका चोपड़ा, मनीषा कोइराला, अनिल कपूर, जूही चावला, अनुपम खेर ,सुभाष घई, विवेक ओबेरॉय, डॉ अजय सहाय और पप्पू खन्ना सहित कई अन्य फिल्मी कलाकारों को भी सम्मानित किया गया।

हैरान मत हाें, यह वो अवार्ड नहीं, जो आप समझ रहे हैं। खेसारी लाल को मिले अवार्ड का पूरा नाम 'दादा साहब फाल्के अकादमी अवार्ड' है। केंद्र सरकार द्वारा भारतीय सिनेमा की तरक्की और विकास में शानदार योगदान देने वाले कलाकारों को दिया जाने वाला 2016 का 'दादा साहेब फाल्के अवार्ड' तेलुगु अभिनेता कसीनथुनी विश्वनाथ को दिया गया है।

दूसरी ओर 'दादा साहब फाल्के अकादमी अवार्ड' एक निजी ट्रस्ट द्वारा दिया जाता है, जिसमें अभिनेता जानी लीवर, निर्माता-निर्देशक पहलाज निहलानी और मिथुन चक्रवर्ती जैसे लोग शामिल हैं। ट्रस्ट सन् 2000 से हिंदी और क्षेत्रीय भाषाओं की फिल्मों के कलाकारों को सम्मानित कर रही है। दादा साहब फाल्के के नाती चंद्रशेखर पुसलकर भी इस अवार्ड के पक्ष में हैं।

यह भी पढ़ें: ये हैं आइटम क्वीन 'भोजपुरी की हेलन' , इनकी कातिल अदा के लाखों हैं दीवाने

बहरहाल, दादासाहेब फाल्‍के अकादमी अवार्ड मिलने पर खेसारीलाल खुश हैं। आज वे भोजपुरी सिनेमा के हॉट स्‍टार हैं। लेकिन, संघर्ष के वे दिन भी गुजरे हैं, जब वे पैसे के लिए ठेले पर लिट्टी की दुकान चलाते थे। आरंभिक दौर में उन्‍होंने स्टेज शो कर धीरे-धीरे पहचान बनाई। खेसारी लाल पर अश्लील फिल्‍मी गाने गाने के भी आरोप लगते रहे।

यह भी पढ़ें: विवादों के बाद एक बार फिर धूम मचाने आ रही है खेसारी-अक्षरा की हिट जोड़ी

Posted By: Amit Alok