पटना [अमित आलोक]। सदी के महानायक अमिताभ अमिताभ बच्‍चन (Amitabh Bachchan)  का शुक्रवार को जन्‍मदिन (Birthday) था। कम लोग ही जानते हैं कि उनका बिहार से एक खास नाता रहा है। अमिताभ बच्‍चन की पत्‍नी जया बच्‍चन (Jaya Bachchan) की ननिहाल पटना में है। अमिताभ समय-समय पर बिहार के दुख-दर्द में काम आते रहे हैं। प्रदेश में आयी हाल की बाढ़ के पीडि़तों (Flood Victims) की मदद के लिए उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री राहत कोष (CM Relief Find) में 51 लाख रुपये दिए हैं। इसके पहले जून 2019 में उन्‍होंने बिहार के 2100 गरीब किसानों (Farmers) का कर्ज चुका दिया था।

समय-समय पर आते रहे बिहार के काम

बाढ़ पीडि़तों के लिए दिए 51 लाख

अमिताभ बच्‍चन समय-समय पर बिहार के काम आते रहे हैं। हाल में भारी बारिश के बाद आई बाढ़ (Flood) तथा जगह-जग‍ह जलजमाव (Waterlogging) के कारण बिहार में जनजीवन अस्‍त-व्‍यस्‍त हो गया था। राजधानी पटना में भी तक करीब 10 दिनों तक पानी जमा रहा। इस त्रासदी से दुखी अमिताभ ने राज्‍य सरकार को 51 लाख रुपये का चेक दिया है। बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के नाम से लिखे पत्र के साथ मुख्‍यमंत्री राहत कोष में देय यह चेक अमिताभ बच्‍चन के प्रतिनिधि ने बिहार के उपमुख्‍यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) को सौंपा।

2100 किसानों को दी आर्थिक मदद

इसके पहले जून 2019 में अमिताभ बच्‍चन ने बिहार के 2100 किसानों को आर्थिक मदद दी थी। उन्‍होंने बैंक के कर्ज में डूबे व इसे चुकाने में असमर्थ इन गरीब किसानों के कर्ज चुका दिए थे। इसके कुछ दिन पहले अमिताभ ने अपने ब्लॉग में लिखा था कि वे बिहार के कुछ किसान, जो अपना कर्ज़ चुकाने में असमर्थ हैं, को एक तोहफा देना चाहते हैं। बाद में पता चला कि ये तोहफा यही था।

पुलवामा के शहीदों के परिवारों को भी दिए 10-10 लाख

ऐसा नहीं कि अमिताभ ने केवल बिहार के ही काम आते रहे हों। बीते साल उन्‍होंने उत्तर प्रदेश के 1348 किसानों का कर्ज़ भी चुका दिया था। इसके अलावा अमिताभ बच्‍चन ने जम्‍मू-कश्‍मीर के पुलवामा (Pulwama) में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकी हमले (Terror Attack) के शहीदों के परिवारों को भी 10-10 लाख रुपये की सहायता दी। इन शहीदों में कई बिहार के भी थे।

...और ये है अमिताभ का बिहार से खास कनेक्‍शन

आइए अब जानते हैं अमिताभ का बिहार से वो खास कनेक्‍शन, जिसकी चर्चा ऊपर की गई है। अमिताभ की पत्‍नी जया बच्‍चन की ननिहाल पटना में है।

जया की मां इंदिरा भादुड़ी (Indira Bhaduri) पटना में ही पली-बढ़ी तथा यहीं उनकी पढ़ाई हुई थी। इंदिरा की शादी भोपाल के पत्रकार व लेखक तरुण भादुड़ी (Tarun Bhaduri) से हुई, जिसके बाद वे इंदिरा भादुड़ी हो गईं। शादी के बाद इंदिरा भादुड़ी भोपाल के श्यामला हिल्स इलाके में रहतीं हैं। तरुण का निधन 1996 में हो गया। इंदिरा भादुड़ी से मिलने अमिताभ का परिवार भोपाल जाता रहता है।  

तरुण भोपाल में अंग्रेजी अखबार ‘स्टेट्समैन’ के संवाददाता थे। अमिताभ की ब्‍लॉकबस्‍टर फिल्‍म 'शोले' (Sholay) तरुण भादुड़ी की किताब 'अभिशप्‍त जंगल' (Abhishapta Jungle) पर आधारित है। तरुण ने चंबल (Chambal) के बीहड़ों में डकैतों के साथ रहकर उनके जीवन पर बंगाली भाषा में यह किताब लिखी थी।

Posted By: Amit Alok

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप