संवाद सूत्र, कटिहार। जिले के मनिहारी प्रखंड के दिलतपुर पंचायत अंतर्गत हरिपुर चौक से एक अजीबो-गरीब मामला सामने आया। यहां पिछले एक सप्ताह से कोबरा की पूजा जोर शोर से चल रही थी। गांव वालों की मानें तो साक्षात विषहरी ने उनके गांव में प्रकट हुईं। मामले के पीछे की कहानी कुछ ऐसे शुरू हुई कि जब से लोगों ने गांव में घूम रहे कोबरा को देखा, वे इस डर से उसे भगाने लगे कि सांप कहीं किसी को डंस न ले। इसके बाद भी सांप नहीं भागा। ग्रामीणों के मुताबिक हर रोज वो इलाके में गश्त करते दिखाई देने लगा। 

 लिहाजा, विषैले सांप को विषहरी का रूप मान गांव के लोग पूजा अर्चना करने लगे। लोगों की भीड़ भी हरिपुर गांव में लगने लगी। महिला, पुरुष और बच्चे तक गेहुआ सांप को हाथ से स्पर्श कर चढ़ावा चढ़ाने लगे। विषधर ने किसी को डंसा नहीं। स्थानीय लोगों ने बताया कि कुछ दिन पूर्व उक्त स्थान पर विषहरी पूजा हुई थी। उसी दिन से विषधर देखा गया, कई बार भगाने की कोशिश की गई। सांप इसी आस पास मंडराता रहा। इस दौरान इसने किसी को क्षति नहीं पहुंचाई लिहाजा लोग आस्था से इसकी पूजा करने लगे।

यह भी पढ़ें: बिहार में धनवर्षा! रातों-रात लोग बन रहे लखपति और अरबपति, खगड़िया-कटिहार और कई जिलों से खबर

शुक्रवार को स्थानीय कुछ लोगों ने इसकी सूचना वन विभाग को दी। प्रबुद्ध लोगों का मानना था कि सांप किसी को नुकसान नहीं पहुंचा रहा लेकिन इस तरह से पूजा करने से उसे नुकसान पहुंच सकता है। अगरबत्ती, धूप और तरह-तरह के फूलों का चढ़ावा उसे निढाल कर रहा था। वहीं कुछ ने इसे अंधविश्वास बताते हुए भी वन विभाग की टीम को सूचना दी। मौके पर पहुंची वन विभाग के कर्मियों नेहरि चौक पहुंचकर विषधर का रेस्क्यू किया। वन विभाग के अधिकारी ने कहा कि सांप को जंगल में छोड़ दिया जाएगा।

कोबरा का किया गया रेस्क्यू

मिली सूचना पर शुक्रवार को वन विभाग की टीम भी दिलारपुर हरी चौक पहुंची,ग्रामीणों को समझाया बुझाया तथा साँप को रेस्क्यू कर अपने साथ ले गई।वन विभाग के रेंज ऑफिसर बीएल मण्डल,फोरेस्टर अभय कुमार वर्मा, वन रक्षी मनिहारी रीना कुमारी, वन रक्षी कटिहार कुन्दन कुमार सहयोगी कमल महतो, ललित कुमार, टिंकू भी मौजूद थे।रेस्क्यू टीम में शामिल वन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि यह सांप व्हाइट कोबरा (गेहूंअन) प्रजाति का है।सांप अभी केंचुआ में है तथा अस्वस्थ है। इसलिए उसने किसी को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया। ग्रामीणों को काफी मशक्कत से समझा बुझाकर सांप को रेस्क्यू किया गया।

(नोट- दैनिक जागरण अंधविश्वास का पुरजोर विरोध करता है। खबर ग्राउंड पर चल रही तरह-तरह की चर्चाओं के आधार पर लिखी गई है। वन्य जीवों की रक्षा प्राथमिकता होनी चाहिए।) 

 

Edited By: Shivam Bajpai