जागरण संवाददाता, भागलपुर। शहर के प्रतिष्ठित ग्लोकल हॉस्पिटल पर कोरोना मरीजों के साथ मनमाना फीस लेने के बाद अब महिला के साथ छेड़खानी का आरोप लगा है। भागलपुर की महिला रूचि रौशन ने हॉस्पिटल के कंपाउंडर ज्योति कुमार पर गंभीर आरोप लगाई है। जब महिला ने इसकी शिकायत की तो मरीज को जेएलएनएमसीएच रेफर कर दिया गया। दो दिनों तक महिला मेडिकल अस्पताल में पति को लेकर रही, लेकिन किसी ने सुध नहीं ली। हालत गंभीर देख महिला पति को एंबुलेंस से लेकर पटना के एक निजी अस्पताल पहुंची जहां पति ने दम तोड़ दिया। दरअसल, महिला रूचि रौशन के पति रौशन चंद्र दास नोएडा में सॉफ्टवेयर इंजीनियर थे। महिला का मायका भागलपुर में ही है। होली में सभी लोग भागलपुर आए थे। नौ अप्रैल को पति रौशन की तबीयत खराब हो गई। महिला ने कोरोना की जांच कराई। कोरोना के सभी जांच रिपोर्ट निगेटिव आई। इसके बाद सिटी स्कैन में फेफड़े में संक्रमण निकला। इसके बाद महिला ने पति को ग्लोकल हॉस्पिटल में भर्ती कराया।

 

पत्नी लगाती पति को बचाने की गुहार, कंपाउंडर करता रहा अश्लील हरकत

पति की मौत पटना के एक निजी अस्पताल में हो गई। पत्नी ने बताया कि ग्लोकल हॉस्पिटल में पति के बेड के बगल में मां भी भर्ती थी। अस्पताल की ओर से मनमाना पीस भी लिया जा रहा था। इसके बाद भी पति की देखरेख सही तरीके से नहीं हो रही थी। आइसीयू में पति को पानी देने वाला भी कोई नहीं था। तबीयत खराब हो जाने के कारण पति बोल नहीं पा रहे थे। कुछ जरूरत होती थी तो मोबाइल पर मिस कॉल मारते थे। मिस कॉल आते थे तो आइसीयू जाकर पति को पानी पिलाती थी। अस्पताल से डिस्चार्ज होने के पूर्व जब वह आइसीयू पति के पास बैठी हुई थी तो कंपाउंडर ने जैसे दुपट्टा खींच ली और अश्लील हरकत करने लगा।

 रेमडीसिविर का आधा वायल गिराने पर पूछा तो अस्पताल कर्मियों ने लगाई डांट

कोरोना काल में रेमडीसिविर के इंजेक्शन को लेकर देश में मारामारी चल रही है। इस दवा के लिए लोग मेडिकल स्टोर के चक्कर काट रहे हैं और किसी भी कीमत पर रेमडीसिविर का इंजेक्शन खरीदने को तैयार हैं। महिला के पति को भी इंजेक्शन लगना था महिला ने किसी तरह इंजेक्शन का एक वाइल उपलब्ध कराया। कंपाउंडर ने इंजेक्शन का आधा वाइल जमीन पर गिरा दिया। इस पर जब महिला ने पूछा तो अस्पताल कर्मियों ने डांट फटकार लगा दी।

मेडिकल अस्पताल में भी नहीं मिली व्यवस्था

ग्लोकल हॉस्पिटल हालत गंभीर देख कर सॉफ्टवेयर इंजीनियर को मेडिकल अस्पताल रेफर कर दिया। मेडिकल अस्पताल के आइसीयू वार्ड में भर्ती किया गया। जहां दो दिनों तक कोई सुधार नहीं हुआ परिवार वाले चिकित्सक से गुहार लगाते रहे लेकिन किसी ने एक नहीं सुनी। इसके बाद महिला पति को लेकर एंबुलेंस से पटना के निजी अस्पताल पहुंची। यहां भी आइसीयू में पति को भर्ती कर दिया गया। लेकिन उचित इलाज और ऑक्सीजन के चक्कर में पति की मौत हो गई।

तीन सदस्यीय जांच टीम गठित

ग्लोकल हॉस्पिटल में शर्मशार करने वाली घटना की जांच के लिए तीन सदस्यीय टीम गठित कर घटनास्थल जांच को भेजा गया है। एसएसपी निताशा गुड़िया ने बताया कि सहायक सदर अनुमंडल पदाधिकारी अनु कुमारी, सिटी एएसपी पूरन झा और महिला थानाध्यक्ष रीता कुमारी को टीम में शामिल करते हए मौके पर भेजा गया है। पीड़ित महिला से एसएसपी ने बात की और मामला दर्ज कराने को कहा है। पीड़िता ने कहा कि वह घटनाक्रम की लिखित आवेदन देगी। एसएसपी ने कहा कि महिला के आवेदन पर केस दर्ज किया जाएगा।

हालांकि सिविल सर्जन डॉ उमेश शर्मा ने कहा कि घटना के बारे में जानकारी नहीं है। इस तरह का मामला हुआ है तो इसकी जांच की जाएगी। दोषी पर कार्रवाई की जाएगी। पीड़ित इसकी लिखित शिकायत भी करें।

यह भी पढ़ें - Bihar:  मेरा बाबू बीमारी से नहीं मरा, अस्‍पताल प्रबंधन ने ली है जान, छेड़खानी की शिकार पत्‍नी रूचि की रूला देगी कहानी 

Watch video: ग्लोकल हॉस्पिटल; विवादों से है पुराना नाता, हर निजी अस्पताल में मिल जाएंगे ज्योति और अखिलेश जैसे हैवान, एक दर्दनाक कहानी 

ग्लोकल हॉस्पिटल भागलपुर : विधायक अजीत शर्मा ने सीएम और स्वास्थ्य मंत्री को लिखा पत्र, बोले-कठोर कार्रवाई हो

ग्लोकल अस्पताल पर हुई बड़ी कार्रवाई,जांच कमेटी गठित, छापेमारी हुई, कंपाउंड गिरफ्तार

ग्लोकल हॉस्पिटल: 12 दिनों में ज्योति छेड़छाड़ का रोज निकालता था मौका, क्या सचमुच नहीं थी प्रबंधन को जानकारी