जागरण सवांददाता, भागलपुर। ग्लोकल हॉस्पिटल में कोरोना संक्रमित का इलाज कराने गई महिला से छेड़खानी का मामला तूल पकड़ गया है। कांग्रेस विधान मंडल दल के नेता भागलपुर विधायक सभा के कांग्रेस अजीत शर्मा ने मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिखकर इस घटना की जांच कराकर कठोर कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने कहा इस तरह की घटना बिहार को शर्मसार करने वाली है। महिला के साथ ज्योति नाम के कंपाउंडर ने उसका दुपट्टा खींचा। जब महिला ने विरोध किया तो उसके पति को जेएलएनएमसीएच भागलपुर रेफर कर दिया गया।

जेएलएनएमसीएच भागलपुर में भी सीनियर या जूनियर किसी डॉक्टर या नर्स के केयर नहीं किया। निराश होकर वह एंबुलेंस से पटना स्थित राजेश्वर हॉस्पिटल में अपने पति को ले गई, लेकिन वहां भी कोई देखने वाला नहीं था। बेड पर पड़े उसके पति ऑक्सीजन के लिए तड़पते रहे लेकिन किसी ने उनको नहीं देखा। नतीजतन, उनकी मौत हो गई। किसी के इलाज के लिए एक महिला को इतना जूझना पड़े यह क्रूरता की हद है। महिला के वीडियो के आधार पर मामले की जांच कराकर अविलंब कार्रवाई की जाए। ताकि महिला के साथ न्याय हो सके।

क्‍या है मामला- पढ़ें यह पांच खबरें, मिल जाएगी आपको सारी जानकारी

बिहारः संक्रमित पति को बचाने के लिए अस्पताल में छेड़खानी सहती रही पत्नी, मौत के बाद बयां की दर्द भरी दास्तां, Watch video

Watch video: मेरा बाबू बीमारी से नहीं मरा, अस्‍पताल प्रबंधन ने ली है जान, छेड़खानी की शिकार पत्‍नी रूचि की रूला देगी कहानी

Watch video: ग्लोकल हॉस्पिटल; विवादों से है पुराना नाता, हर निजी अस्पताल में मिल जाएंगे ज्योति और अखिलेश जैसे हैवान, एक दर्दनाक कहानी

ग्लोकल अस्पताल पर हुई बड़ी कार्रवाई,जांच कमेटी गठित, छापेमारी हुई, कंपाउंड गिरफ्तार

ग्लोकल हॉस्पिटल: 12 दिनों में ज्योति छेड़छाड़ का रोज निकालता था मौका, क्या सचमुच नहीं थी प्रबंधन को जानकारी

इस घटना की हर ओर निंदा हो रही है

महिला के आगे आने के बाद कई लोगों ने इस घटना की निंदा की है। लोगों को कहा कि चिकित्‍सक को भगवान कहा जाता है। अस्‍पताल को मंदिर माना गया है। इसके बावजूद चिकित्‍सकों की इस तरह की लापरवाही और आमनवीय कृत्‍य समझ से परे है। इस मामले की कितनों भी निंदा की जाए हम है। राज्‍य सरकार और जिला प्रशासन को इसपर कठोर कार्रवाई करनी चाहिए।