जागरण संवाददाता, किशनगंज : सीमांचल के दो दिवसीय दौरा पर पूर्णिया और किशनगंज में केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह का कार्यक्रम शनिवार की शाम संपन्न हुआ। पहली बार कोई गृह मंत्री किशनगंज में 24 घंटे तक रुपका। शुक्रवार की शाम अमित शाह पूर्णिया में जनभावना रैली को संबोधित करने के बाद शाम करीब चार बजे किशनगंज पहुंचे। इसके बाद किशनगंज में कई कार्यक्रमों में प्रतिभाग किया। इस दौरान उनका अनोखा कदम भी दिखा, जब किशनगंज में अमित शाह ने प्रोटकॉल तोड़ दिया।

दरअसल, शनिवार की सुबह शाह जब काली मंदिर से पूरा करने के बाद वापस लौट रहे थे, तभी सड़क के किनारे बड़ी संख्या में लोग उनकी एक झलक पाने को और सेल्फी लेने के लिए बेताब थे। वे अमित शाह जिंदाबाद के नारे लगा रहे थे, लोगों के उत्साह को देख अमित शाह खुद को रोक नहीं पाए और सुरक्षा की परवाह किए बगैर नारेबाजी कर रहे लोगों के बीच पहुंच गए। इस दौरान उन्होंने वहां मौजूद लोगों का अभिवादन स्वीकार किया। उनके समर्थक गदगद दिखाई दिए।

Click Here - देखें अमित शाह की खास तस्वीरें

शुक्रवार को किशनगंज आगमन पर माता गुजरी यूनिवर्सिटी पहुंचकर शाम चार बजे भाजपा प्रदेश स्तरीय कोर कमेटी की बैठक में शामिल हुए। वहीं पांच बजे भाजपा सांसद, विधायक एवं पूर्व मंत्रियों के साथ बैठक किए। इसके बाद रात्रि विश्राम माता गुजरी यूनिवर्सिटी के गेस्ट हाउस में किए। इसके बाद शुक्रवार की सुबह भाजपा के सांसद एवं विधायकों के साथ नाश्ता कर करीब 10 बजे शहर के लाइनपाड़ा स्थित बुढ़ी काली मंदिर में पूजा अर्चना के लिए प्रस्थान किया। मंदिर में पूजा के बाद 11:15 बजे हवाई मार्ग से भारत नेपाल सीमा स्थित टेढ़ागाछ के फतेहपुर बीओपी पहुंचे। वहां करीब एक घंटा तक रहे और पांच बीओपी के नए भवन का उद्घाटन कर एसएसबी अधिकारी और जवानों को संबोधित किया।

इसके बाद हवाई मार्ग से हवाई अड्डा पहुंचे और बीएसएफ सेक्टर मुख्यालय में बीएसएफ, एसएसबी और आईटीबीपी अधिकारियों के साथ सीमा सुरक्षा को लेकर घंटों सुरक्षा व्यवस्था को लेकर मंत्रणा की। इसके बाद माता गुजरी यूनिवर्सिटी पहुंचकर प्रमंडल स्तरीय भाजपा संगठन की बैठक में शामिल होकर संगठन मजबूती और आगामी 2024 के लोकसभा चुनाव में 40 सीटों पर जीत का मंत्र दिया। इसके बाद शाम करीब 4 बजे किशनगंज से रवाना हुए।

Edited By: Shivam Bajpai

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट