नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। Driving Licence Rules In India: अक्सर ऐसा होता है कि लोग काम की तलाश में अपने घर से दूर किसी दूसरे राज्य में नौकरी करने चले जाते हैं और फिर वहीं बस जाते हैं। ऐसे में सुविधा के लिए लोग जहां रह रहे हैं उस राज्य का ड्राइविंग लाइसेंस बनवा लेते हैं, जबकि उनके पास दूसरे राज्य का ड्राइविंग लाइसेंस पहले से होता है। ऐसा उन लोगों के साथ भी देखा जाता है जो गाड़ी चलाने का काम करते हैं।

पर शायद आपके पता नहीं कि देश में एक से ज्यादा ड्राइविंग लाइसेंस रखने पर आप पर जुर्माना लग सकता है और इसके लिए आपको भारी फाइन देनी पड़ सकती है। तो चलिए जानते हैं कि भारत में एक से ज्यादा ड्राइविंग लाइसेंस रखने के क्या नियम है।

ड्राइविंग लाइसेंस रखने के नियम

पहले कोई भी व्यक्ति एक से ज्यादा ड्राइविंग लाइसेंस को रखा सकता था, लेकिन अक्टूबर 2019 में आए नए नियमों के तहत अगर किसी व्यक्ति के पास एक से ज्यादा ड्राइविंग लाइसेंस है, जिसे अलग-अलग राज्यों से जारी किया गया हो तो इसके लिए व्यक्ति का चालान कट सकता है। साथ ही फर्जी ड्राइविंग के साथ पकड़े जाने वाले लोगों को जेल भी भेजा जा सकता है।

कैसे होगी इसकी जांच

किसी व्यक्ति के पास एक से ज्यादा ड्राइविंग लाइसेंस है कि नहीं इसे जानने के लिए नए बनने वाले ड्राइविंग लाइसेंसों में कुछ जरूरी बदलाव किए गए हैं । नए बनने वाले हर ड्राइविंग लाइसेंस में एक स्मार्ट चिप दिया जा रहा है, जिसे क्यूआर कोड के जरिए एक्सेस किया जा सकेगा।

इस चिप में ड्राइवर से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे नाम, पता, ब्लड ग्रुप, पिछले ट्रैफिक उल्लंघनों की पूरी जानकारी को स्टोर किया जाता है, जिसे ट्रैफिक पुलिस बार कोड रीडर द्वारा तुरंत एक्सेस कर सकते हैं। यह ठीक वैसा ही काम करता है, जैसे किसी गाड़ी का नंबर कोड रीडर में डालते ही उस गाड़ी से जुड़ी पूरी जानकारी सामने आ जाती है। इस तरह से ट्रैफिक पुलिस को ड्राइवर से जुड़ी पूरी जानकारी मिल जाती है। 

ड्राइविंग लाइसेंस में भी हो रहे हैं बदलाव

पूरे भारत में एक तरह के ड्राइविंग लाइसेंस को लाने के लिए सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा जारी ड्राइविंग लाइसेंस और वाहन रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट के रंग, डिजाइन और सुरक्षा सुविधाओं को एक जैसा किया जा रहा है। इसके अलावा, रिन्यू होने वाले ड्राइविंग लाइसेंसों में भी इस चिप को लगाया जाएगा।

इस ऐप के द्वारा होगी निगरानी

ड्राइविंग लाइसेंस से जुड़ी पूरी जानकारी को परिवहन सारथी ऐप में स्टोर किया जा रहा है। इसके लिए सारथी-4 का डाटा अपलोड का काम जारी है, जिसमें 1000 से भी ज्यादा रोड ट्रांसपोर्ट ऑफिस (RTOs) को कंप्यूटराइड्स किया जा रहा है। एक बार सारा डाटा अपलोड होने के बाद फर्जी लाइसेंस लेकर वाहन चलाने वाले लोगों को जेल की हवा खानी होगी।

कर सकते हैं आवेदन

पहले से दो ड्राइविंग लाइसेंस रखने वाले चालकों के लिए थोड़ी राहत भी है। चालक चाहे हो अपने दो ड्राइविंग लाइसेंस को एक भी करा सकता है। इसके लिए उन्हे https://sarathi.parivahan.gov.in/sarathiservice/stateSelection.do लीक पर क्लिक करके अप्लाई ऑप्शन को चुनना होगा। इसके बाद ड्राइवर लाइसेंस क्लब का विकल्प आएगा, जिसमें एक एप्लीकेशन को भरकर RTO के लिए अपॉइंटमेंट बुक किया जा सकता है। इसके बाद की सारी प्रक्रिया RTO अधिकारी द्वारा की जाएगी।

ये भी पढ़ें-

अगर पार्किंग से गायब हो गई कार तो क्या करेंगे आप? जान लें इससे जुड़े नियम

एक्सीडेंट के समय लॉक हो जाती हैं ज्यादातर गाड़ियां, जान बचाने के लिए ये टिप्स बनेंगी संजीवनी

Edited By: Sonali Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट